Sshree Astro Vastu

"एक महिला की अनदेखी दुनिया" कैलेंडर

माँ ने अलमारी से रबर बैंड में लपेटा हुआ कैलेंडर निकाला… भगवान के सामने रखा और उन्हें हल्दी लगाकर प्रणाम किया और हर साल की तरह इस साल भी फ्रिज के पास वाली दीवार पर टाँग दिया। मेरी मां हर साल ऐसा करती है… मेरे मन में सवाल आया… इन साधारण बारह पेपरों में क्या है… तो मैं पिछले साल का कैलेंडर छानने बैठ गया।माँ द्वारा स्थापित गैस सिलेंडर की तारीख, पिता के वेतन की तारीख, माँ की बारी की तारीख, किराना भुगतान और पैसे की तारीख, दादाजी की परीक्षा की तारीख, स्वयं सहायता समूह में भुगतान की तारीख, बिशी, दूध, पेपर और के भुगतान की तारीख लाइट बिल, ईएमआई की तारीख, घर का काम करने वाली मां की खामियां आदि। इस कैलेंडर में प्रविष्टियां थीं… यहां तक ​​कि मेरी मौसी के बेटे की शादी की तारीख तक..

भले ही डिजिटल कैलकुलेटर गणना करते हों, मासिक वित्तीय योजना इसी पेपर कैलेंडर पर की जाती है। इस कैलेंडर में गर्भवती महिला की जांच की तारीख, फिर प्रसव के लिए अस्पताल में उसके पंजीकरण की तारीख से लेकर प्रसव के दिन तक दर्ज किया जाता है।हमारी प्रथा थी कि 10वीं और 12वीं बोर्ड का टाइम टेबल घर आने पर कैलेंडर पर दर्ज हो जाता था…यहां तक ​​कि स्कूल में हड़ताल की तारीख से लेकर लाइब्रेरी से ली गई किताब वापस करने की तारीख तक इस कैलेंडर पर दर्ज हो जाती थी। अगर परिवार ने बाहर घूमने जाने को कहा तो भी बिचा कैलेंडर को एक घंटे तक चर्चा सुननी पड़ती थी।कुछ घरों में दादा-दादी की दवा का समय भी कैलेंडर पर देखा जा सकता है। मजेदार बात यह है कि जब नया कैलेंडर आता है तो यह परिवार के सदस्यों के जन्मदिन को देखने के लिए एक इवेंट की तरह होता है। श्रावण, मार्गशीर्ष में व्रत का इस कैलेंडर में अलग स्थान है। जाने क्यों लेकिन संकष्टी चतुर्थी, आषाढ़ी एकादशी, गणेशोत्सव, रक्षाबंधन, नवरात्रि उत्सव, दशहरा, दिवाली, होली, संक्रांत जैसे दिन और त्योहारों को कैलेंडर में एक बार देखने से मन नहीं भरता, दोबारा देखने में एक अलग ही संतुष्टि होती है और दोबारा।हाथ में स्मार्ट फोन हो, घर में अच्छी डायरी हो, फिर भी कोई गृहिणी ऐसे कैलेंडर पर क्यों लिखेगी… इसका जवाब कैलेंडर देखने के बाद आता है… कहते हैं जो आंखों के सामने होता है वही होता है शाश्वत, कुछ चीजें पारंपरिक भी हैं… रसोई वह स्थान है जहां गृहिणी अपना अधिकांश समय घर में बिताती है। एक कैलेंडर लगाया जाता है। इस कैलेंडर को देखकर एक तरफ तो महिला पूरे हफ्ते के

खाने की प्लानिंग करने लगती है और दूसरी तरफ उतना ही अच्छा खाना बनाने लगती है… दोनों में कोई गलती नहीं होती.इस कैलेंडर को देखकर ऐसा लगता है मानो इस कैलेंडर ने घर के सभी लोगों की अच्छी और बुरी स्थितियों को दर्ज करने की जिम्मेदारी ले ली है। हो सकता है इस कैलेंडर को देखकर कुछ महिलाओं को कुछ सहारा मिले…हो सकता है पूरे साल ऐसे ही हुक पर लटके इस कैलेंडर को देखकर कई महिलाओं को ताकत मिले।तभी अंदर से मेरी मां की आवाज आई, “कैलेंडर मत फेंको… मैं इसे फेंकना नहीं चाहती…” मैं हंस पड़ी… लेकिन मैं तुम्हें सच बताऊंगी.. .मेरी मां के मन में वह कैलेंडर जिस पर साल भर के सुख-दुख, हर घटना दर्ज होती थी. आत्मीयता स्वाभाविक है2023 कैलेंडर को फिर से रोल किया गया और रबरबैंड किया गया। उस वक्त हमें एहसास हुआ कि हमारे हाथ में यह कोई साधारण बारह कागज नहीं, बल्कि एक महिला की अदृश्य दुनिया है…

 

©®ऋषिकेश के कारण.

 

आपकी कुंडली दिखाकर, समस्या के सशुल्क समाधान के लिए व्होट्सएप्प से📱7900037153 नंबर पर संपर्क करें।

 

error: Content is protected !!
×