Sshree Astro Vastu

भोजन के प्रकार

भोजन तीन प्रकार के होते हैं

सात्विक

राजसी

तामसीक

सात्विक से गले से उपर का भाग विकसित होता है बुद्धि का विकास होता है

ख़ून मे आक्सीजन बढाने से,4pm से 8am वर्त(निःआहर) रात्रि का भोजन नहीं करने से 9 – 10 बीच सोने से बुद्धि व शरीर का विकास होता है शरीर को गन्दगी निकलती हैं शरीर निरोगी होता है शरीर व बुद्धि को रात्रि में भोजन पचाने का कार्य नहीं होने से खून में आक्सीजन से बुद्धि का विकास याददाश्त बढती है याददास्त बढने से बुद्धि द्वारा किये जाने वाले कार्य पढाई,व्यापार, योजना बना कर कार्य करने की क्षमता बढ जाती हैं बुद्धि शरीर के लिए दवा बनाती है रोगों से शरीर को ठीक करती हैं

अतः संध्या भोजन संध्या से पहले व हल्का पतला जल्दी पच जावे करे सुबह ख़ून मे आक्सीजन बढाने वाले प्राणायाम नाभी झटका, कपालभाति, रस्सी कूदे, नृत्य आदि कर नाश्ते में ओमेगा 3 बादाम, अखरोट, अलसी, सुर्यमुखी के बीज भीगे हुए, फल आदि आदि सेवन करे।

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×