Sshree Astro Vastu

ज्ञानव्रतियों को नमस्कार - आज शिक्षक दिन

ज्ञान भूमि भारत भूमि विश्व में भारत की पहचान है। इसकी वजह है  इस देश में प्राचीन काल से ही शिक्षकों की परंपरा रही है। वे शिक्षा..चिन्तन..अनुसंधान के साथ-साथ सभी विषयों का गहन ज्ञान भी सिखाते थे। इसके अलावा विद्यार्थियों को सुसंस्कृत.. संस्कारी.. जिज्ञासु.. विवेकशील होना चाहिए।        विश्व के लाखों छात्र भारत के तक्षशिला, नालन्दा, उदंतपुरी, सोमपुरा, जगदादला, नागार्जुनकोंडा, विक्रमशिला, वल्लभी, कांचीपुरम, मणिखेत, सारदा पीठ, पुष्पगिरि जैसे देश भर में फैले विश्वविद्यालयों में पढ़ते थे।”विद्या सर्वत्र पूजनीय है” यह भारतीय संस्कृति की परंपरा है। फिर आजादी के बाद महान दार्शनिक डॉ. भारत रत्न ने भी यही सम्मान दिया। सर्वपल्ली राधाकृष्णन को उपराष्ट्रपति चुना गया। वे दस वर्षों (1952-62) तक भारत के उपराष्ट्रपति के पद पर रहे। इसके बाद अगले पांच साल (1962-67) तक वह राष्ट्रपति पद पर रहे और देश को दिशा दी.

उनका जन्म दक्षिण में तिरुत्तानी में हुआ था। इस दार्शनिक को भारत की संविधान समिति के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया। उनकी खास बात यह थी कि जब वे बनारस और कलकत्ता विश्वविद्यालयों के चांसलर थे तब भी वे कक्षा में बच्चों को पढ़ाते थे। उन्होंने विश्व को भारतीय दर्शन की महिमा का लोहा मनवाया। यही कारण है कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने भारतीय दर्शन के इस भाष्यकार के नाम पर एक पुरस्कार दिया हैदेश में धर्मनिष्ठ डॉक्टरों की एक नई पीढ़ी तैयार करने में उनका योगदान बहुत महत्वपूर्ण था, जो विज्ञान-उन्मुख होने के साथ-साथ आध्यात्मिक भी थे। शिक्षा के क्षेत्र में उनके 40 वर्षों के योगदान के कारण ही 5 सितंबर को उनके जन्मदिन को ‘शिक्षक दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।क्षेत्र कोई भी हो या विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कितनी ही उन्नत क्यों न हो, उसके पीछे का ज्ञान मानवीय है। शिक्षक ही यह ज्ञान प्रदान करता है। यही कारण है कि भारत का चंद्रमा लैंडिंग या आदित्य मिशन सफल रहा है। कोई भी व्यक्ति कितना भी बड़ा क्यों न हो, प्रगति का श्रेय शिक्षकों को जाता है। चाहे वह ग्रामीण हो या शहरी.शिक्षक अच्छे स्वभाव वाले..शांत..संयमी, विवेकशील, ज्ञानवान होते हैं। विद्यार्थी चाहे गरीब हो या अमीर.. अल्प आय वाला हो या मेधावी लेकिन वह उन्हें समान न्याय के साथ ज्ञान प्रदान करता है.. सृजन करता है। शिक्षक ही होते हैं जो समाज को दिशा देते हैं ताकि हर व्यक्ति शिक्षा प्राप्त कर सके और समाज में आगे बढ़ सके..आदर्श नागरिक बन सके, समाज को अच्छे से चला सके। आदर्श व्यक्ति स्वयं समाज में शिक्षक की छवि होती है। समाज में शिक्षकों का सदैव सम्मान होता है।

लोकमान्य स्वतंत्रता का मंत्र देने वाले गुरु हैं। देश को अगरकर, महर्षि कर्वे, महात्मा फुले, सावित्रीबाई फुले जैसे शिक्षकों की महान परंपरा मिली है, जिन्होंने समाज को सुधारा।

        अब बचपन से एक ही लक्ष्य है सीखना.. बच्चों सीखो. सभी गुरुजनों को प्रणाम. शिक्षक दिवस की मुबारक.. !!

नोबेल पुरस्कार जीतने के बाद अल्बर्ट कैमस का अपने प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक को पत्र

19 नवंबर 1957

 

प्रिय महाशय जर्मेन,

 

अपने दिल की गहराइयों से आपसे बात करने से पहले मैं इन दिनों अपने आस-पास की हलचल को थोड़ा कम होने देता हूँ। मुझे अभी बहुत बड़ा सम्मान दिया गया है, जिसकी मैंने न तो मांग की थी और न ही इसकी मांग की थी।

 

लेकिन जब मैंने यह खबर सुनी तो मेरी मां के बाद मेरा पहला ख्याल आपके बारे में आया। आपके बिना, मेरे जैसे छोटे गरीब बच्चे की ओर आपके स्नेह भरे हाथ के बिना, आपकी शिक्षा और उदाहरण के बिना, यह सब कुछ नहीं होता।

मैं इस प्रकार के सम्मान का बहुत अधिक महत्व नहीं रखता। लेकिन कम से कम यह मुझे आपको यह बताने का अवसर देता है कि आप मेरे लिए क्या थे और अब भी हैं, और आपको आश्वस्त करने के लिए कि आपके प्रयास, आपका काम और आपके द्वारा दिया गया उदार हृदय अभी भी आपके छोटे स्कूली बच्चों में से एक में जीवित है, इतने वर्षों के बावजूद, आपका आभारी शिष्य बनना कभी बंद नहीं हुआ। मैं तुम्हें पूरे दिल से गले लगाता हूं।

 

 

एलबर्ट केमस

Share This Article
×