Sshree Astro Vastu

"यह नाटक मेरा है"

साहित्य संघ मंदिर में ‘नट सम्राट’ का प्रयोग चल रहा था. नाना साहब फाटक, जो अपने जीवन के अंतिम दिन थके हुए और दुर्बल होकर गुजर रहे थे, वहाँ आये। उन्होंने तात्यासाहब शिरवाडकर से पूछा.

 

 डॉ. लागू कहाँ हैं? मैं उन्हें बताना चाहता हूँ…”

“क्या”?

“यह नाटक मेरा है” और हां..दरअसल ये नाटक उनका था. क्योंकि यह पिछले साल था. नानासाहब ने फाटक बनाम शिरवाडकर कहा था.”आपको एक ऐसा नाटक लिखना चाहिए जो हम जैसे बूढ़े पागलों का मानवीकरण करेगा।” उन्होंने ‘किंग लियर’ का नाम भी सुझाया और तब तात्या साहब को एहसास हुआ। तात्यासाहब कहते हैं…नाना साहब जैसा एक भव्य बूढ़ा नट मेरे मन में खड़ा था.. और किंग्लियर की वीरता का दावा अपने लिए कर रहा था।उसी समय साहित्य संघ के कुछ नियमित सदस्य बहस कर रहे थे। शंकरराव घाणेकर ने ऊंची आवाज में कहा… “बस.. बहस क्यों? आपके नए नटों के सम्राट दाजी भटवाडेकर.. और हमारे पुराने नटों के नट सम्राट.. नानासाहेब।” और उसी समय नाटक का नाम तय हो गया. दरअसल तात्यासाहब को हमेशा किसी नाटक का नाम ढूंढने में परेशानी होती थी और यह पहला नाटक था जो उन्हें लिखने से पहले मिला था।तात्यासाहब ने नाटक लिखना प्रारम्भ किया। प्रथम अंक ‘गोवा हिन्दू एसोसिएशन’ के कार्यकर्ताओं के समक्ष पढ़ा गया। डॉ. श्रीराम लागू और शांता जोग को मुख्य भूमिकाएँ निभाने के लिए चुना गया था। डॉ. लागू ने नाटक पढ़ा.. और पहले पाँच-दस पन्नों में ही उन्हें इसकी विशिष्टता का अहसास हो गया। कहते हैं..”पहले अंक की शुरुआत में अप्पासाहेब की वह प्रविष्टि.. सेवानिवृत्त वृद्ध नटसम्राट.. हजारों दर्शकों के सामने खड़े होकर अपने पूरे दिमाग को बहुत खुले तौर पर, वाक्पटुता से, लेकिन एक महान और काव्यात्मक भाषा में खाली कर देते हैं। सभी दर्शकों को पसंद आया आधे घंटे तक नाजुक, सुगंधित फूलों की निरंतर वर्षा, मैं आनंद, करुणा, क्रोध और प्रेम में नहाए हुए सुस्वादु दृश्य को देख रहा था।जब डॉ. लागू से इस नाटक के पारिश्रमिक के बारे में पूछा गया तो उन्होंने एक संदेश भेजा। शून्य रुपये से लेकर 700 रुपये तक कोई भी राशि। लेकिन मैं यह नाटक करना चाहता हूं। निर्देशक पुरूषोत्तम दर्वेकर को नागपुर में अपनी नौकरी से केवल एक महीने का वेतन मिलेगा। लेकिन उनके पहुंचने से पहले ही डॉ. लागू ने अपने मन में रिहर्सल शुरू कर दी और रिहर्सल शुरू होने से पहले लगभग पूरी संहिता का पाठ किया।दर्वेकर मास्टर नागपुरा से आए और नाटक की रिहर्सल शुरू हो गई और कई लोगों द्वारा कही गई एक-दो बातों पर बहस शुरू हो गई.. अप्पा का शुरुआती भाषण बहुत लंबा है। इसे कम किया जाना चाहिए लेकिन डॉ. लागू ने इसका पुरजोर विरोध किया। आख़िरकार यह निर्णय लिया गया कि.. देखिए असल प्रयोग में कैसा लगता है, अगर दर्शकों को यह उबाऊ लगेगा तो हम एपिसोड को थोड़ा छोटा कर देंगे।दूसरा विवाद था..तीसरे अंक में जंगल का दृश्य। दर्वेकरों को यह बिल्कुल पसंद नहीं आया।”कोई मकान देता है, मकान..”और.. “जंगल के जानवर भाग गए हैं।”

लेकिन इस बार भी डॉ. लगुन ने उस हिस्से को नाटक में रखने के लिए मजबूर किया।नाटक का पहला प्रदर्शन 23 दिसंबर 1970 को बिड़ला मातोश्री ऑडिटोरियम में हुआ। थिएटर जानकार दर्शकों से खचाखच भरा हुआ था। नाटक का पर्दा उठने से लेकर अंत तक नाटक चलता रहा। प्रयोग अच्छा रहा, और… अगले ही मिनट में विठोबा के रूप में काम करने वाला नट..बाबूराव सावंत अचानक गिर पड़े.. वे तुरंत बेहोश हो गए और उन्हें नजदीकी बॉम्बे अस्पताल ले जाया गया.. लेकिन एक या दो घंटे के भीतर ही उन्होंने इस दुनिया को छोड़ दिया।दरअसल पहले नंबर के बाद बाबूराव के सीने में दर्द होने लगा..पसीना आने लगा..समय-समय पर नींद आने लगी..गोलियां कैसे काम करती थीं. तीसरे नंबर की आखिरी एंट्री में उन्होंने ये भी कहा..अगर मैं स्टेज पर नहीं जाऊंगा तो नहीं जाऊंगा ये काम करता है?लेकिन नाटक के आरंभिक प्रयोग में ऐसी अनुमति कौन देगा?अंतिम प्रविष्टि समाप्त होने तक उसने मृत्यु को पकड़े रखा और फिर उसके सामने आत्मसमर्पण कर दिया।शुरुआत में नाटक को लेकर दर्शकों की प्रतिक्रिया अच्छी नहीं थी. लेकिन धीरे-धीरे हर प्रयोग हाउसफुल होने लगा। दिल्ली में एक प्रयोग के दौरान दूसरे एक्ट के बाद पं. रविशंकर अचानक स्क्रीन के पीछे आये और डॉ. लागू को गले लगा लिया। उसने भर्राई आवाज में कहा.. “तुम मुझे मार रहे हो” डॉ. श्रीराम लागू कहते हैं.”इस नाटक ने मुझे मेरी योग्यता से कहीं अधिक दिया है। मुझे नहीं पता कि मैं यह सब अपने बैग में रख पाऊंगा या नहीं। मुझे नहीं पता। मराठी थिएटर प्रेमियों के दिमाग में, इसने मुझे बैठने की जगह दी है कोने में, और इसने आत्मा विशकार को एक कलाकार के रूप में खुशी से भरा एक विस्तृत, खुला आंगन दिया है।इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि इसने मुझे गहरी शिक्षा दी जिससे मेरा जीवन व्यापक हो गया।भाषा का सौंदर्य, उसकी अपार शक्ति, शब्दों से फूटती सामग्री की धुंआ और इन सबने जीवन को एक ठोस सहारा दिया। ‘नट सम्राट’ करने के बाद मैं पहले से भी बेहतर ‘आदमी’ बन गया। और क्या क्या कोई नाटक किसी व्यक्ति को कुछ दे सकता है? यही वह चीज़ है जिसके लिए वे बने रहना चाहते थे।”और इसीलिए मराठी रंगमंच में ‘नटसम्राट’ का स्थान बहुत ऊँचा और बेजोड़ है। पश्चिमी रंगमंच में हर अभिनेता का अंतिम सपना ‘हैमलेट’ की भूमिका निभाना है। इसी तरह, मराठी थिएटर में एक अभिनेता का सपना ‘नट सम्राट’ की भूमिका निभाना है; डॉ. लागू के बाद, दत्ता भट्ट, सतीश दुभाषी से लेकर हाल ही में मोहन जोशी तक सभी ने यह भूमिका निभाई है।’नट सम्राट’ नाटक अब केवल वी.वी.शिरवाडकर का नहीं है.. बल्कि केवल मराठी लोगों का है जैसा कि नानासाहेब फाटक ने कहा था..”यह नाटक मेरा है”इसी तरह, हर मराठी आदमी, चाहे वह कलाकार हो या प्रेमी.. हमेशा कहेगा…”यह नाटक मेरा है” 

सुनील शिरवाडकर

 

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
error: Content is protected !!
×