Sshree Astro Vastu

जिद्दी !

(एक सहपाठी के रूप में मैंने व्यक्तिगत रूप से अनुभव किया है कि कैसे एक असाधारण दृढ़ संकल्प एक जीवन को बदल सकता है। मैं आदरपूर्वक आपको उसी अवसर पर दिवाली विश थॉट गिफ्ट के रूप में भेज रहा हूं, आप भी बिना सोचे इसे आगे भेजें, इतना बड़ा कौन पढ़ेगा?) पाठ में जीवन को आकार देने की शक्ति होगी। पाठक अवश्य पढ़ें, यह मेरा अनुभव है! जैसे ही आप इसे अनिवार्य रूप से पढ़ते हैं! तो लिखने की आशा बढ़ जाती है। मैंने इसे थिंक पॉजिटिव के इस वर्ष के अंक में लिखा है। धन्यवाद! )

 

प्रवीण दावेने जैसा कहानी में होना चाहिए वैसा ही हुआ.दरवाजे पर एक अजीब औरत! पेस्टीशी होना चाहिए.”अंदर आएं?”हाँ, लेकिन आप कौन हैं?””नहीं, तुम्हें पता है?””नहीं!””मैं बुद्धिमान!””बुद्धिमत्ता?”“हाँ, याद है..””मत उलझो, तुम कौन हो?” तभी पत्नी आई, “अरे, पहले उन्हें अंदर तो आने दो।””उम्म? हाँ, अंदर आओ!”

“तुम बहुत बदल गए हो? तुम बड़े हो गए हो, है ना? तुम्हें एक नाम मिल गया है! लेकिन आज मैं एक अलग कारण से आया हूं, पुरानी दोस्ती की खातिर।”मेरी पत्नी मेरी विशेष पत्नी है

ध्यान भरी आँखों से देखने लगा”।महिला धीरे से मुस्कुराई.”मैं मेधा थी! ठाणे में बेडेकर कॉलेज! मराठी बी ए!.. मैं पटवर्धनबाई की कक्षा में एक साथ थी।मैं पच्चीस वर्ष से थोड़ा अधिक पीछे चला गया।”हा.. हा..मेधा! कैसा बदलाव? याद है, वह विद्वान जो अधिकांश समय पुस्तकालय में बैठा रहता है!” भाषा से प्रेम करने वाली शावली स्मार्ट मेधा, जो प्रतिस्पर्धा में हैं आगे!अब अहो की औपचारिकता से एजी की अनौपचारिकता तक जाना आसान था।”बोलो मेधा, इतना अचानक? वो भी बिना बताए?”वह थोड़ा हकलायी, मानो शब्द खोज रही हो।”प्रवीण, या तो पच्चीस साल बाद दिखाई दिया, वह भी बहुत जरूरी काम से, मैं जानता हूं, यह बहुत गलत व्यवहार है। फोन नंबर जिकिरी ने प्राप्त किया था, लेकिन फोन पर किसी से बचना आसान है, इसलिए वह आया दृढ़ संकल्प के साथ घर, अब एक गिलास पानी डाले बिना नमना से सीधे पूछता है, कोई। क्या आप बैंक से परिचित हैं? आपका?””परिचित तो हैं, लेकिन किस सन्दर्भ में?””लोन.. लोन चाहिए था””ऋृण?””क्या यह बहुत ज़रूरी है? दीवाली के बाद मैं ब्याज सहित ऋण चुकाऊंगा, ब्याज सहित भी-“”लेकिन कितना?””पांच हजार!”मुझे आश्चर्य हुआ कि मेधा इतनी कम राशि के लिए बैंक से ऋण क्यों मांग रही होगी! या इतने वर्षों के बाद, वह मुझसे ऋण के लिए कोई चतुर बहाना ढूंढ रही होगी क्योंकि वह मुझसे ऋण मांगने में झिझक रही थी? कारण जो भी हो, यह सच है कि मेधा आर्थिक संकट में थी।मैंने पूछा, “मेधा, यह रकम किसलिए है?””मैं अपना खुद का व्यवसाय शुरू करना चाहता हूं, कुछ चीजें खरीदना चाहता हूं”मैंने अन्यमनस्कता से पूछा, “आपके सर, उनकी नौकरी में कोई समस्या है?”वह चुप हो गयी. खामोशी अलग थी, हम पति-पत्नी एक-दूसरे को देख रहे थे, सवाल पूछ रहे थे, क्या उसे चोट लगी?मुझे नहीं पता था.“माफ करना मेधा, कुछयदि यह कोई निजी कारण है, तो मुझे मत बताएं!” उसने जोर से निगलते हुए कहा, “दो साल पहले निमोनिया से उनकी मृत्यु हो गई।”मुझे माफ करें!”उससे पहले दोनों बच्चे थे, उसे सफ़ेद बुखार हो गया था, अब वह अकेली है।””ओह!”

“भाई पर कितने आश्रित होंगे? उसकी अपनी दुनिया है, उसने और उसकी भाभी ने बहुत कुछ किया, लेकिन अब हमारे छोटे से गाँव में मैंने खुद एक पोली भाजी केंद्र शुरू किया, जहां से एक बस हर दिन कसारा स्टेशन पहुंचती थी और स्थानीय लोगों को चकली लड्डू के पैकेट बेचती थी! “ओह, लेकिन फिर नौकरी?””अब पचास की उम्र में कौन देगा? उसने भी खोजा, लेकिन इस उम्र में आश्चर्यजनक अनुभव..चौंकाने वाले आए।”मैं अवाक रह गया, और मेरी पत्नी ने अपनी आँखों के किनारों को देखा।“ओह, स्टोव, बर्तन और तवे का किराया इतना है कि सारा मुनाफ़ा इन्हीं में चला जाता है।अब वह अकेली रहती है, उस कमरे का किराया कैसे वहन नहीं कर पाती? मैंने सोचा, अब 5000 का लोन मिल जाएगा तो जरूरी बर्तन खरीद लूंगा, जिससे किराया हमेशा के लिए बच जाएगा, अगले महीने दिवाली है, मेरे ऑर्डर बढ़ते जा रहे हैं, नौकरानी रखनी पड़ेगी, उसकी सैलरी..! क्या नहीं बचेगा?” थोड़ा अनुमान लगाते हुएअचानक उसने पूछा, “तो क्या मुझे कर्ज़ मिलेगा? पाँच हज़ार! मैं ब्याज चुका दूँगी, जो भी हो!”पत्नी चाय रखने के लिए रसोई में गई तो उसने दूर से इशारा करके अंदर बुला लिया। मैं समझ नहीं पा रहा था कि क्या करूं, लेकिन महिलाएं हर दुविधा से बाहर निकलने का रास्ता ढूंढ ही लेती हैं, पत्नी ने कहा, “देखो, मैंने उसकी सारी बातें सुनी हैं, यह बहुत ईमानदार लगता है, हमें उसकी मदद करनी चाहिए।”“हां, लेकिन कौन सा बैंक चार दिन में लोन देगा?””बैंक नहीं, चलो दे दो!””पांच हजार?”“हाँ, अभी देना होगा!””लेकिन अगर सब कुछ नकली है..?””तो हमारे पांच हजार डूब जायेंगे, लेकिन अगर सब सच है तो उसकी जान बची रहेगी! उसे पांच हजार दे दो..!”मैं अपनी पत्नी को देखता रहा. वह जिद कर रही थी.एक महिला दूसरी महिला के मन को ऐसे पढ़ सकती है जैसे वह कागज पर लिखी इबारत पढ़ रही हो। मैं अलमारी से पैसे लेकर मेधा के सामने आया और कहा, जिस जिद के साथ तुम खुद को दोबारा खड़ा कर रही हो, उसकी मदद करो, यह खरी में मेरा हिस्सा है।”उसकी आंखें भर आईं, वह भी सपना देख रही होगी, ‘प्रवीण, ये पैसे मुझे दिवाली के बाद मिलेंगे…’मेधा घर से चली गई, लेकिन उसकी कहानी सुनकर वह दिल में ही रह गई। बीच-बीच में उसका फोन आता, बढ़ते ऑर्डर, खरीदे गए सामान का जिक्र करते हुए मैं उसे संतुष्ट करना चाहता था, लेकिन इसे लेकर थोड़ा झिझक महसूस हो रही थी।दीवाली के बाद दस-बारह दिन बाद मेधा सबसे पहले फोन करके घर आई। आज उसके व्यक्तित्व में एक आत्मविश्वास झलक रहा था। मुस्कान में खुशी थी.व्यवसाय क्या कह रहा है? पूर्णतः सफल?उन्होंने विस्तार से बताया कि यह कैसे हुआ। हमने परस्पर प्रशंसा के साथ सुना। फिर उसने तुरंत अपने पर्स से एक बंद लिफाफा निकाला और उसे दे दिया, प्रवीण पैसे लौटा रहा था, लेकिन हाजिस कठिनाई में आपने यह समय दिया, मेरी परिस्थितियों के कारण जो दुविधा हुई, उसका मैं ऋणी हूं..’मेधा, अरे ये तो सरस्वती का धन है, इससे तुमने लक्ष्मी को पाला- इस संकल्प ने, हालात से लड़ने की बजाय, उसे बदल दिया, उसे अपना साथी बना लिया, सचमुच अब देखो अगला जीवन सुख-समृद्धि से भरा होगा , क्योंकि आप अपने हाथ फैलाने के बजाय अपनी मुट्ठियाँ भींच लेते हैं। “काम पर वापस जाओ।”वह मुस्कुराई, बैग से कुछ मिठाइयाँ निकालीं, ये मेरी नई मिठाइयाँ हैं!उसका बटुआ उसके सामने था। मैं इसे वापस लेने में झिझक रहा था, उसी पत्नी ने कहा, मेधाताई, अब आपके मन में नया क्या है, मेरा मतलब है, एक नया संकल्प?हां, लेकिन मैं आपको तब बताऊंगा जब मेरा काम पूरा हो जाएगा!फिर हम दोनों उसके बदले ये पैसे स्वीकार कर लेंगे।”मुझे आश्चर्य हुआ, प्रज्ञा ने वही कहा जो मेरे मन में था।”अरे, अब मैं अपने वित्त की योजना बना सकता हूँ”“भैया हम दोनों से समझ रहे हैं..”प्रज्ञा को नहीं पता कि वह सही समय पर यह सुझाव कैसे दे।जैसा कि भाऊबीज ने कहा, उसने बटुआ ले लिया।दो-तीन महीने ऐसे ही गुजर गए, मेधा को याद करने का कोई कारण नहीं था। एक शाम फ़ोन पर! मेधा ने कहा, “मैं अभी मना नहीं करना चाहती, आगे बताऊंगी।”उसकी आवाज में आत्मीयता का भाव था.तुम्हें और प्रज्ञावाहिनी, तुम्हें कल चैत्र पड़वा पर मेरे घर आना होगा।”हाँ, लेकिन इसमें खास क्या है?””खास बात यह है कि आप मुझे भाई के रूप में दिए गए पैसों से एक छोटी सी लाइब्रेरी शुरू कर रहे हैं, आप आएंगे तो आसपास के गांवों से भी बहुत लोग आएंगे, आप अपील करेंगे तो पर्याप्त सदस्य हो जाएंगे, अगला लेकिन वहां छोटे से गांव में कोई लाइब्रेरी नहीं है, वो इसकी शुरुआत कर रहे हैं, क्या आप उद्घाटन में आएंगे?”मैं तो दंग रह गया, अरे बात करो, थोड़ी फीस दे दूँगा.. पर आ जाओ तुम और भाभी!पत्नी बोली, “क्या हुआ? किसका फोन है? आंखें भर आई हैं क्या?”मैंने सब कुछ कह दिया.बहुत दिनों बाद आंसुओं से किसी की ज़िद की बू आई. जब भाभी जिद पर अड़ी तो दीपज्योति की बातें धुंआ उगल रही थीं!           *****              (निश्चित रूप से प्रियजनों के लिए अग्रेषित, दिवाली विचार उपहार) प्रवीण डेवन 

error: Content is protected !!
×