Sshree Astro Vastu

"श्रीराम" और "श्रीकृष्ण" भारतीय इतिहास के दो अविश्वसनीय नायक

अगर आप इसे इस तरह से देखें”श्रीराम” और “श्रीकृष्ण” ये दोनों भारतीय इतिहास के दो अविश्वसनीय नायक हैं। !! एक “अयोध्या से रामेश्वर तक”। जबकि दूसरा उनकी जीवनी के माध्यम से “द्वारका से असम” तक के क्षेत्र को कवर करता है। हजारों वर्षों से भारत की यह भूमि संस्कारों के एक अनूठे बंधन में बंधी हुई है।

तो जन्म से ही दोनों के चरित्र में कितना विरोधाभास है, है ना? एक का जन्म चिलचिलाती धूप में हुआ था और दोपहर का समय था, जबकि दूसरे का जन्म भारी बारिश में हुआ था और आधी रात थी!! एक का जन्म राजमहल में हुआ और दूसरे का जन्म जेल में हुआ!!समानता की बात करें तो पहले राक्षस को इन दोनों ने मारा था…. एक से त्रातिका और दूसरे से पूतना! सबरी के बोरे और सुदामा के पोहे आज भी उनके मिलनसार मैत्रीपूर्ण स्वभाव के उदाहरण के रूप में उद्धृत किये जाते हैं। कैकेयी और गांधारी दोनों एक ही प्रांत से थीं जिसके कारण उनके चरित्र में एक अलग मोड़ आ गया।इन दोनों माताओं के कड़वे शब्दों को ध्यान में रखते हुए दोनों ने इसे सहर्ष स्वीकार कर लिया.!! एक ने सुग्रीव को उसका राज्य दे दिया। फिर दूसरा युधिष्ठिर को! एक ने देशभक्ति के लिए अपनी पत्नी को त्याग दिया। जबकि दूसरे ने लोकलुभावनवाद की चिंता किए बिना सोलह हजार महिलाओं को स्वीकार किया.!! एक ने अपने पिता के वचन और क्षात्रधर्म के लिए परिवार का त्याग कर वनवास स्वीकार किया। इसे ग़लत नहीं माना जाता. जबकि दूसरे ने क्षत्रिय धर्म के लिए परिवार के खिलाफ हथियार उठाना गलत नहीं माना।कोई जन्मभूमि को स्वर्ग समझता था। जबकि दूसरे ने कर्मभूमि को स्वर्ग बना दिया।

उनमें से एक ने दुश्मन के दरबार में जाकर युद्ध के नुकसान से बचने की कोशिश की, जबकि दूसरे ने युद्ध के नुकसान से बचने की कोशिश की। एक ने समुद्र पार किया और सोने की लंकापुरी को नष्ट कर दिया। जबकि दूसरे ने समुद्र पार कर सोने की द्वारकापुरी बसाई। एक ने बालि के मुख से निन्दा स्वीकार कर ली, जिसे वृक्ष के पीछे बाण मार दिया गया था। जबकि दूसरे की मृत्यु व्याध के हाथों हुई जिसने पेड़ के पीछे से तीर चलाया था।पहला सिद्धांत है… तो…दूसरा प्रैक्टिकल है.!! दो विशाल विरोधाभासों का यह व्यक्तित्व इस देश के सामने अपने चरित्र के मर्म को हिलाए बिना हजारों वर्षों से विभिन्न प्रक्षेपी कहानियों को स्वीकार करता रहा है।  “प्रकाश स्तम्भ” बनकर खड़े हैं और आगे भी खड़े रहेंगे.!! जय श्री राम…जय श्री कृष्ण!!

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
error: Content is protected !!
×