Sshree Astro Vastu

संत तुकाराम बीज

हम सोचते हैं कि महापुरुष, संत, कवि पैदा होने पड़ते हैं, बनाये नहीं जा सकते। इस धारणा को गलत साबित करने वाले हमारे एक महान व्यक्तित्व हैं संत तुकाराम महाराज…!

 

संत तुकाराम महाराज का जन्म एक धनी परिवार में हुआ था। उनका गोत्र मोरे था और उपनाम अंबिले तुकोबा तीन भाइयों के बीच के थे। बड़ा भाई थोड़ा परेशान था | घर-गृहस्थी ठीक-ठाक चल रही थी कि इस परिवार पर एक के बाद एक विपत्तियाँ आने लगीं।

माता-पिता चले गए, बड़े की पत्नी चली गई, तुकोब की पहली पत्नी रखमाबाई भी चली गई, जो हमेशा बीमार रहती | कर्ज़ बाज़ार की स्थिति थी जो अच्छी स्थिति में थी।

 

ऐसी दुर्घटना में आम लोग थक जाते हैं, तुकोब के बड़े भाई की तरह घर छोड़कर दुनिया छोड़ देते हैं, या हताशा में आत्महत्या तक कर लेते हैं। यहीं पर तुकोबा की महानता निहित है। तुकोबा हरित चिंतन में मग्न हो गये। उन्होंने अपने अखंड अनुभव से प्राप्त जगरहट्टी के दर्शन को शब्दों में पिरोया। अपने कंधों पर भगवद्भक्ति की पताका लेकर उन्होंने आकाश में जनजागरण का तूफान खड़ा कर दिया।

 

साढ़े तीन सौ साल बाद भी ये तूफ़ान थमा नहीं है. जो कोई भी तुकोबा का अभंग पढ़ता है वह इस तूफ़ान में बह जाता है। तुकोबा वामन की तरह पूरी पृथ्वी और यहां तक ​​कि आकाश को भी रौंद देता है। तुकोबा में अलौकिक प्रतिभा है जो समुद्र तक फैली हुई है और हिमालय की ऊंचाइयों को छूती है। चारों की तरह सामान्य जीवन जीने के बावजूद, तुकोब ने सभी को आपदाओं से घिरे जीवन के अलग-अलग अर्थ समझाए।

जहाँ उन्होंने शब्दों के माध्यम से व्यापार की महान शिक्षा दी, वहीं भक्ति के साहस को भी प्रकट किया।

 

संसार में रहते हुए आने वाले सुख-दुख को कैसे दूर रखा जाए, संसार में शामिल हुए बिना कैसे जिया जाए, इस विषय पर तुकोब जैसा हमारा मार्गदर्शन किसी और ने नहीं किया। कड़वे अनुभवों की कड़वाहट को पचाकर संसार को अच्छे विचारों का अमृत प्रदान करने वाले तुकोबा एक महान संत हैं जिनकी तुलना इन गुणों में महादेव से ही की जा सकती है।

स्रोत: इंटरनेट, ज्योतिर्भास्कर जयंत सालगांवकर…

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×