Sshree Astro Vastu

सातवें घर में शनि की स्थिति

शनि धन संचय से संबंधित ग्रह है… यह हमारी जन्म कुंडली में धन कारक भी है। 7वां घर बाजार क्षेत्रों, शॉपिंग सेंटरों, जुए के स्थानों, खरीद और बिक्री केंद्रों का प्रतिनिधित्व करता है… इसलिए यहां शनि का स्थान अच्छी व्यावसायिक समझ को दर्शाता है… यह बाजार क्षेत्रों में संरचित क्षमताओं को दर्शाता है… उदाहरण के लिए बाज़ारों, बाज़ार क्षेत्रों में भवन निर्माण और निर्माण… व्यावसायिक क्षेत्रों में शनि एक वास्तुकार है…

शनि 🪐 को समय और स्थान से परे ऊर्जा माना जाता है…वायु तत्व और 7वें घर में बहुत अधिक वायु ऊर्जा होती है…इस तरह यह जीवन के महत्वपूर्ण क्षेत्रों में बेचैन करने वाली ऊर्जा पैदा कर सकता है…उदाहरण के लिए विवाह के संबंध में.. .हालाँकि यह विवाह संस्था को स्थिरता के अनुसार मदद करता है और तलाक को कम करने में मदद करता है लेकिन अन्य स्तरों पर यह वैवाहिक हनीमून अवधि का समर्थन नहीं करता है .. यह नपुंसक है इसलिए यह व्यक्ति में निराशा पैदा कर सकता है, वैवाहिक शारीरिक सुख पैदा कर सकता है .. बहुत सारी वायु ऊर्जा नेतृत्व कर सकती है जीवन में अवसादग्रस्त घटनाओं की ओर…ये दोनों ही अवसाद की ओर ले जाते हैं….

 

सातवां घर जनन अंगों के निर्माण से संबंधित है और प्रोस्टेट ग्रंथियां भी इससे संबंधित हैं। शनि ट्यूमर का प्रतिनिधित्व करता है इसलिए कष्ट की स्थिति में यह प्रोस्टेट कैंसर या प्रमुख जनन अंगों में समस्याओं का कारण बन सकता है…

शनि हड्डियों के स्वास्थ्य, जोड़ों, बृहदान्त्र की समस्याओं, हृदय रोग, यकृत वृद्धि का भी प्रतिनिधित्व करता है…7वें से इसकी दृष्टि 9वें घर पर है…इसलिए घुटनों और जोड़ों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखना चाहिए…

 

शनि दुर्भाग्य और मानसिक परेशानियों का भी प्रतिनिधित्व करता है…यह जीवन को छोटा करता है…यह दीर्घायु का भी प्रतिनिधित्व करता है और सातवां घर जीवन के खतरों से संबंधित है…इसलिए पीड़ित शनि या अन्य अशुभ ग्रहों के साथ इसका संयोजन व्यक्ति या उसके जीवनसाथी की दीर्घायु को प्रभावित कर सकता है… .यह अन्य ग्रहों के कारकों पर भी निर्भर करता है..

शनि कृषि से जुड़ा हुआ है… कांटेदार क्षेत्र, जंगली फूल… सातवें भाव से इसकी दृष्टि चौथे घर पर है… यह कांटेदार क्षेत्रों में किसी व्यक्ति के घर का प्रतिनिधित्व कर सकता है… चौथा घर बगीचों का भी प्रतिनिधित्व करता है… इसलिए कांटेदार बगीचे या बंजर उनके आवास के साथ कंटीला इलाका…

 

शनि आध्यात्मिक पथ और मानसिक अंतर्ज्ञान भी है…चौथे और नौवें घर पर इसकी दृष्टि के कारण इन जातकों में मानसिक अंतर्ज्ञान हो सकता है….

 

सातवां घर दूसरे बच्चे और वीर्य से संबंधित है..यहां शनि बच्चे के जन्म को प्रतिबंधित कर सकता है या दो बच्चों के बीच अंतराल बढ़ा सकता है…शादी के बाद बच्चों के बीच एक लंबा अंतर..

 

निष्कर्ष..

 

सप्तम भाव में शनि विदेशी व्यापार के लिए सकारात्मक ऊर्जा है… विवाह जैसे कानूनी बंधन… समाज के शाही व्यक्तियों के साथ संबंध स्थापित करना… सप्तम भाव में शनि समाज सुधारक भी है… व्यापार के लिए भी अच्छा है…

 

नकारात्मक स्तर पर…यदि पाप ग्रहों से दृष्ट या युत हो तो जेब काटने और चोरी की ओर ले जाया जा सकता है… क्योंकि सातवां घर चोरों और गुमशुदा व्यक्तियों से संबंधित है.. इसलिए शनि की नकारात्मक ऊर्जा इस तरह की चीजों की ओर ले जा सकती है…

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×