Sshree Astro Vastu

नामाक्षर Alphabets -हानिकारक लाभदायक अतिलाभदायक " आपकी जन्मपत्री में छुपा है राज़

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नाम का व्यक्ति के स्वभाव और जीवन पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ता है। व्यक्ति का नाम बहुत महत्वपूर्ण होता है। इससे व्यक्ति की पहचान बनती हैं। यह उसके काम और पर्सनालिटी पर गहरी छाप छोड़ता है। ज्योतिष शास्त्र में तो व्यक्ति की कुंडली में दिए गए नाम और असली नाम के आधार पर गणनाएं की जाती हैं। व्यक्ति के ये नाम उसकी राशि भी तय करते हैं। नाम के पहले अक्षर से किसी भी व्यक्ति के बारे में काफी कुछ जाना जा सकता है।   कौन से alphabets , अक्षर आपके मित्र , शत्रु , लाभदायक , हानिकारक होंगे जीवनभर. जन्मपत्री समाधान में एक ज्योतिषी आपको उचित परामर्श देता हैं।

         आप अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान ऑफिस दुकान फैक्ट्री मकान में एम्प्लाइज को भी इसी आधार पर नियुक्त करके लाभ उठा सकते हैं।कई cases में मालिक ने अपने शत्रु नामाक्षर को नौकरी पे रखकर चोरी , मान हानि या कर्मचारी द्वारा मालिक पर मारपीट योन उत्पीड़न या शारीरिक मानसिक आरोप लगा कर कोर्ट कचेरी तक cases होते हैं।

कुंडली भी एक अजीब पहेली मानी जाती है/कौन

 

सा ग्रह कहाँ पर धोखा दे रहा है या कब धोखा देगा/अथवा खुद ही धोखा बनकर संसार में विचरण करने के लिये जीवन  प्रदान कर रहा है इस बात की जानकारी करना बहुत जरूरी होता है/

कौन कैसे कहाँ धोखा देता है इस बात की जानकारी मनुष्य रूप मे समझने के लिये मनुष्य जीवन के कारक ग्रहों का जानना भी जरूरी है/ धोखे का भाव कौन सा है किस ग्रह के साथ कौन सा धोखा हो सकता है इस बात को भी जानना जरूरी है/किस स्थान पर कैसे कौन धोखा देगा/वह मित्र के रूप मे धोखा देगा/दोस्त के रूप मे धोखा देगा या खुद ही अपने मन से धोखा खाने के लिये अपने चेहरे पर बोर्ड लगाकर घूमेगा कि आओ मुझे धोखा दो/ और जो देखो वही धोखा देकर चलता बने खुद धोखा खा कर अपने आप चुपचाप बैठ जाओ/ धोखा देने से पहले क्या होता है

          विवाह मामलो में भी यदि आप ज्योतिष कुंडली समाधान अनुसार मित्र लाभदायक नामाक्षर  से शाद्दी करते हैं।

यदि आप अतिशत्रु नामाक्षर से विवाह परिणाम कोर्ट कचेरी तलाक मुकदमा ही होगा । यही नियम आप मकान फैक्ट्री आदि जिस कॉलोनी शहर में ले रहे हो उसका भी परिणाम कुंडली अनुसार लाभ – हानि आदि परिणाम देता हैं।कई बार जातक यहा जानना चाहता है की

– कौन से अक्षर नाम वाले जातक मेरे मित्र या शत्रु हो सकते है ?

– कौन से नाम का शहर मुझे सब से ज्यादा फायदेमंद होगा ?

– कौन से नाम से कंपनी रखू ? इस प्रकार अनेक सवाल आते है । नामाक्षरों के आधार पर पारस्परिक मित्रता यस शत्रुता देखना की एक विद्या “वर्ग विन्यास” है ।

             आप अपनी जन्मपत्री शास्त्र मान्य ज्योतिष वास्तु सलाहकार से सलाह ले कर -सामाजिक परिवारक आर्थिक व्यापारिक रोग ऋण में लाभान्वित हो सकते

हैं। जातकों  के अनुभव के लिए you tube की  लिंक पर जाएं।

   

ज्योतिष शास्त्र भारत देश का गौरव है।

इस गौरव को जान ने समझने,अनुभव के लिए संपर्क करे।

Share This Article
×