Sshree Astro Vastu

मृत्युंजय अमावस्या

गुढ़ीपड़वा से एक दिन पहले फाल्गुन अमावस्या के दिन हिंदू स्वराज्य के दूसरे छत्रपति धर्मवीर संभाजी महाराज और उनके मित्र कविराज कलश की औरंग्या ने बेरहमी से हत्या कर दी थी।

 

इस अमावस्या को हम मृत्युंजय अमावस्या कहते हैं।

 

लगातार चालीस दिनों तक मृत्यु के साये में रहकर बिना घबराए हिंदू स्वराज्य के लिए अपना बलिदान देने वाले संभाजी महाराज ने उस मृत्यु पर भी विजय प्राप्त की और स्वाभिमान के साथ अपने हिंदू धर्म की रक्षा की।

चलते-चलते कोई साधारण सा काँटा भी गड़ जाए तो हम माँ कहने वाले उन शेरों की छाया कैसे सह सकेंगे? बाल उखाड़े गए, नमक डाला गया, नमक डाला गया, काली मिर्च लगाई गई, कोड़े मारे गए, नाखून खींचे गए, जीभ काट दी गई, दोनों आँखों में लाल-गर्म छड़ियाँ डाली गईं, हाथ और पैर काटे गए, और अंत में अदरक… हर दिन एक यातना दी गई। ऐसे कितने दिन?? पूरे चालीस दिन…कितनी है ये सहनशीलता? कितना साहस? यह कठोर मनोबल कितना है? यह सब कहां से आया? इतना सहने की ताकत किसने दी? किसके लिए तुमने क्या सहा?

सिर्फ और सिर्फ स्वधर्म के लिए…

 

हम हिंदू नववर्ष का स्वागत बहुत धूमधाम से करते हैं। हिंदू धर्म की रक्षा करने वाले छत्रपति पिता-पुत्रों को हम याद तक नहीं करते। यदि उन्होंने मुगलों को नहीं रोका होता तो मुगल सभी हिंदुओं का खतना करके बड़े पैमाने पर धर्मांतरण करवा देते। तो…. कौन सा हिंदू और कौन सा नववर्ष?

 

सभी हिंदू भाई नहीं भूले हैं. आज भी, संभाजी महाराज द्वारा सहे गए 40 दिनों के कष्ट से थोड़ी राहत पाने के लिए हजारों हिंदू 40 दिनों तक नंगे पैर चलते हैं और दिवस भी मौन रहते हैं… जितना हो सके अपने शरीर पर अत्याचार करते हैं।

 

मृत्युंजय अमावस्या – हम सभी को कम से कम इस एक दिन उपरोक्त विकल्पों में से एक को यथासंभव अपनाना चाहिए… पूरे सोमवार शंभू महाराज के बलिदान को याद रखें। उन्हें उस यातना का एहसास होना चाहिए जो उन्होंने सहन की है।’ उनके नाम पर एक दीपक जलाना चाहिए. यही उनका सच्चा गौरव होगा.

 

धर्मवीर छत्रपति संभाजी महाराज की जय।

 

🚩🚩 || जय हिंदू राष्ट्र || 🚩🚩

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×