Sshree Astro Vastu

सुरंग में आदमी ये लोग हैं कौन?

कल मीडिया में जिस सुरंग के बारे में सबसे ज्यादा चर्चा हुई, राष्ट्रपति से लेकर हर कोई जिसके बारे में बात कर रहा था, उस सुरंग से बाहर आए 41 मजदूर कौन हैं? देश की नजरों में आने से पहले आप कैसे रहते थे? आज प्रबुद्ध लोगों के जीवन में अन्य समय का स्याह अंधकार कैसा है..यह इस अवसर पर कहना चाहिए।

इस घटना का सबसे बुरा हिस्सा तब था जब हम सभी दिवाली की सुबह दिवाली अभ्यंगस्नान कर रहे थे। उसी दिन सुबह ठीक उसी समय सुरंग ढह गई. इसका मतलब यह है कि दिवाली के दिन भी उन्हें इस काम के लिए ठेकेदार ने छुट्टी नहीं दी…यह इस बात का उदाहरण है कि मालिक और सरकार भी कितने अमानवीय हैं…. परिवार की गरीबी इतनी है कि एक पिता कल घर के सोने के गहने गिरवी रखकर और फिर यात्रा करके मुक्त हुए बच्चे को देखने आया… उसने गहने गिरवी रखकर सिर्फ 9 हजार रुपये में कर्ज लिया।इनमें से अधिकतर मजदूर झारखंड, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश से आये थे. अकेले झारखंड से 15 मजदूर आये थे.कई लोगों के पास घर पर एक एकड़ से भी कम जमीन है। कई पिता काम करने के लिए बहुत बूढ़े हो चुके हैं।  भुक्तू नामक मजदूर के पिता का कहना है कि सर्दी में घर में गर्म कंबल भी नहीं है, इसलिए मेरा बेटा यह कह कर चला गया कि जब पैसे मिलेंगे तब गर्म कंबल लाऊंगा.जिन कार्यकर्ताओं पर आज राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत तमाम वीआईपी की नजर रही. मीडिया अपडेट रख रहा था..उन मजदूरों के ज्यादातर माता-पिता को यह भी नहीं पता था कि उनका बेटा किस काम के लिए और किस गांव में काम करने गया है। ये वे लोग थे जो बहुत अज्ञानता और गरीबी में जी रहे थे.. जब हमारा बेटा गांव से बाहर जाता है तो हमें दैनिक अपडेट मिलते हैं… यहां तक ​​कि प्यार भरी देखभाल की यह विलासिता भी इन गरीब लोगों द्वारा वहन नहीं की जाती है। .कितना दर्दनाक है ये..एक कर्मी के पिता दिव्यांग हैं. उनके एक बेटे की मुंबई में एक पुल के निर्माण के दौरान मौत हो गई है और दूसरा अब एक सुरंग में फंसा हुआ है।         बहुत कम वेतन, गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं, खराब भोजन और यहां तक ​​कि रहने की भी खराब सुविधाएं… और इन घातक खतरों के ऊपर इस देश में प्रवासी मजदूरों का अस्तित्व है… विभिन्न आंकड़ों के अनुसार, हमारे देश के 15 करोड़ मजदूर अपने घर छोड़कर दूर राज्यों में चले गए.या ऐसे काम के लिए दूसरे राज्यों में चले गए..

ये 41 मजदूर उस दर्द के हिमखंड की नोक हैं।सुरक्षित नौकरियों, नियमित काम के घंटों, छुट्टियों और उदार वेतन के साथ, हम उनके जीवन की थाह नहीं ले सकते…गरीब राज्यों में ये मजदूर छोटे भूमिधारक या भूमिहीन हैं। बरसात के मौसम में जो कुछ भी उगता था हम उसे उगाते थे। सिंचाई की सुविधा न होने के कारण दिवाली के बाद खेती का कोई काम नहीं होता, फिर वे बड़े शहरों में रहने चले जाते हैं। कितनी दूर जाना है? यहां तक ​​कि 2000 किमी. बंगाल से श्रमिक सीधे मुंबई। उड़ीसा से मजदूर सीधे आंध्र के ईंट भट्ठों पर। कोम्बुन को रेलवे की गाड़ी में ऐसे ले जाया जाता है जैसे जानवरों को ले जाया जाता है। कई बार ट्रेन में कई मजदूरों की मौत गाड़ी में फंसने के कारण हो जाती है। इससे उनके जीवित रहने का अंदाजा लगना चाहिएकार्यस्थलों पर दुर्व्यवहार, मानवीय सुविधाओं की कमी, आवास की कमी, खराब भोजन, दिन-रात काम, ठेकेदारों द्वारा महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार और वित्तीय धोखाधड़ी, गबन, कर्ज में फंसी ये बेचारी आत्माएं खुद को जोखिम में डालकर किसी तरह जी रही थीं…कम से कम इस घटना ने देश की सरकार को कुछ समय के लिए इनके प्रति संवेदनशील बना दिया… यहां तक ​​कि गर्म भोजन, मनोरंजन, यहां तक ​​कि इन श्रमिकों के जीवन-यापन का भी ध्यान रखने वाली सरकारें।क्या वह यहां से रणनीतिक समझ दिखाएंगे?  क्या देश की सभी सरकारें इस बात की परवाह करेंगी कि देश में प्रवासी मजदूर ठीक से रहें, जितना सरकार ने यह सुनिश्चित करने के लिए किया कि वे मरें नहीं…?  —-हेरंब कुलकर्णी  नवीनतम धारा: आशा करते हैं कि दिवाली पर मजदूरों को काम पर लगाने वाला क्रूर ठेकेदार, काम बंद होने के कारण इन मजदूरों की 17 दिनों की मजदूरी नहीं काटेगा.

error: Content is protected !!
×