Sshree Astro Vastu

हिंदुओं का नरसंहार

1757 में होली के दौरान (दो दिनों के लिए), मथुरा और वृंदावन में अहमद शाह अब्दाली और उसकी सेना के हाथों हिंदुओं का नरसंहार हुआ। हजारों स्थानीय लोग और तीर्थयात्री इसके शिकार हुए, जो होली मनाने के लिए वहां एकत्र हुए थे। उन्होंने बच्चों और महिलाओं को भी नहीं बख्शा। यह 28 फरवरी 1757 का दिन था।

जाट राजकुमार जवाहर सिंह ने 5000 सैनिकों के साथ मथुरा गांव के बाहर अब्दाली की सेना के खिलाफ प्रतिरोध किया, लेकिन यह प्रयास व्यर्थ रहा। 9 घंटे तक युद्ध चला। जवाहर सिंह के 3000 सैनिक वीरगति को प्राप्त हुए।

 

इसके बाद अब्दाली की सेना गोकुल की ओर बढ़ी। वहां के नागा साधुओं ने मंदिरों और लोगों की रक्षा की। इसके बाद अब्दाली की सेना के खिलाफ हुए भीषण युद्ध में नागा साधु विजयी हुए। 2000 से अधिक नागा साधु वीरगति को प्राप्त हुए।

यह होली हमारे उन सभी योद्धा पूर्वजों को समर्पित है, जिन्होंने धर्म और मातृभूमि के लिए सद्गति प्राप्त की और इन दो दिनों के दौरान नरसंहार के शिकार हुए।

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×