Sshree Astro Vastu

विदेशियों ने सूर्य की किरणों से भगवान बुद्ध की रोशनी देखी

छत्रपति संभाजीनगर

 

विश्व धरोहर एलोरा गुफाओं में सोमवार को विदेशियों सहित विरासत-प्रेमियों, इतिहासकारों और पर्यटकों ने ‘किरणोत-सव’ (भगवान गौतम बुद्ध की प्रतिमा के चेहरे पर पड़ती सूर्य की किरणें) को देखकर आनंद उठाया।

प्रकृति का करिश्मा देखकर विदेशी पर्यटक बेहद प्रभावित हुए और ‘इट्स अमेजिंग’ कहने से खुद को नहीं रोक सके।

रविवार को शाम 4.10 बजे सूर्य की किरणें सबसे पहले भगवान बुद्ध की प्रतिमा (गुफा संख्या 10 में) पर पड़ती हैं।

इतिहास के शोधकर्ता डॉ. संजय पाइकराव ने कहा कि पर्यटकों, विशेषकर विदेशियों और अन्य लोगों ने भी सोमवार को सूर्य की किरणों को देखने का अनुभव किया।

अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक कनाडा, जर्मनी, जापान और लंदन से थे। पिछले दो दिनों में 2,000 से अधिक विद्वान और पर्यटक सूर्य की किरणों को देखने के लिए गुफाओं में गए।

चैत्यगृह या गुफा संख्या 10 विश्वकर्मा गुफा के नाम से प्रसिद्ध है। इसे सुतार-का-झोपड़ा के नाम से भी जाना जाता है।

यह गुफा आदर्श वास्तुकला, सिविल इंजीनियरिंग और खगोल विज्ञान का समन्वय है। डॉ. पाइकराव ने कहा, इसलिए भगवान बुद्ध की खूबसूरत मूर्ति अंधेरी गुफा में चमकती है और हर साल सैकड़ों इतिहास-प्रेमी, विरासत-प्रेमी और पर्यटक इस क्षण को देखने के लिए गुफाओं में आते हैं।

एलोरा की गुफा संख्या 10 में सोमवार को एक मनमोहक दृश्य सामने आया जब सुबह के सूरज ने भगवान बुद्ध की प्रतिमा पर अपनी सुनहरी किरणें डालीं।

“हजारों साल पहले सह्याद्रि चट्टान में उकेरी गई गुफाओं की स्थापत्य शैली का एक उत्कृष्ट दृश्य”…!हर साल 10 और 11 मार्च को सूर्य की किरणें चैत्यगवाक्ष खिड़की के माध्यम से स्तूप में खुदी हुई बुद्ध की छवि पर पड़ती हैं वेरुल गुफाओं के चैत्यगृह में… संपूर्ण बुद्ध प्रतिमा सूर्य की किरणों से प्रकाशित है…स्वयं प्रकाशित बुद्ध। ऐसा लगता है जैसे सूर्यदेव हर साल इस वेरुल गुफा में प्रणाम करने आते हैं…सैकड़ों खगोलीय घटनाओं की गहरी जानकारी रखने वाले उन गुमनाम कारीगरों को नमन… उसी प्रकार श्री करवीर नगरी। महालक्ष्मी अम्बाबाई भी साल में दो बार तीन दिनों के लिए सूर्यास्त की किरणों में स्नान करती हैं!

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×