Sshree Astro Vastu

Good Income

1- जन्म कुंडली के दशम भाव को कर्म स्थान कहा जाता हैं, वृष, सिंह, कन्या तथा धनु लग्न वाले जातकों का यदि धनेश या लाभेश कर्म स्थान के मालिक के साथ द्विस्वाभाव राशि में स्थित हो या एकदूसरे पर प्रभाव हो तो ऐसा जातक एक सफल व्यापारी बनता हैं। ऐसे जातक अपने परिवार में कुल दीपक होते हैं। ऊपर वर्णित ग्रह जितने बलवान होंगे उतनी ही बडी सफलता के मिलने के असार रहते हैं।

 

2- व्यापार हेतु जन्म कुंडली मे धन कि स्थिती अत्यधिक मजबूत होनी चाहिये। जन्म कुंडली में धनेश या लाभेश उच्च अवस्था के हों तथा अष्टमेष व द्वादश से सम्बंध बनाते हो तो व्यक्ति का व्यापार अपने देश से बाहर तक पहुंच जाता हैं। ऐसे जातक करोडों के स्वामी होते हैं।

3- लग्न, धन व कर्म स्थान पर एक से अधिक ग्रहों का शुभ प्रभाव हो तो जातक के पास धन एक से अधिक स्तोत्र से आता हैं। ऐसा जातक कई प्रकार के व्पापार करता हैं।

 

4- बुध ग्रह को व्यापारी कहा जाता हैं। बुध की शुभ स्थिति लग्न, धन, सप्तम,दशम व एकादश स्थान पर हो तो जातक सफल व्यापारी बनता हैं। ऐसे लोग प्रेम सम्बंधो में भी व्यापार करते नजर आते हैं।

 

5- तुला राशि तराजु को प्रदर्शित करती हैं। तथा द्विस्वाभाव राशियां एक से अधिक मार्ग को दर्शाते हैं। यदि जन्म कुंडली के अधिकत्तर ग्रह इन राशियों में बैठे हो तो जातक व्यापार करता हैं और सफल होता हैं।

6- जन्म कुंडली में अगर तृतियेश बलवान हो तो ऐसा जातक किसी के अधीन कार्य नही कर पाता। अपने लिये नये मार्ग बनाता हैं। यदि धनेश व लाभेश के साथ तृतियेश शुभ सम्बंध बनाये तो जातक सफल व्यापारी होता हैं। और कई व्यापारी उसके लिये कार्य करते हैं।

error: Content is protected !!
×