Sshree Astro Vastu

शिव की महिमा

1880 की बात है,मध्य प्रदेश के आगर मालवा में एक शिव मंदिर का जीर्णोद्धार और लगभग पुनर्निर्माण लेफ्टिनेंट कर्नल मार्टिन ने अपनी पत्नी की इच्छा के अनुसार किया था जो भारत में किसी “अंग्रेज द्वारा बनाया गया एकमात्र शिव मंदिर ” है।

 

1879 में आगर मालवा के लेफ्टिनेंट कर्नल मार्टिन अफगानिस्तान के विरुद्ध युद्ध में ब्रिटिश सेना का नेतृत्व कर रहे थे। कर्नल मार्टिन नियमित रूप से अपनी पत्नी को अपनी कुशलता के सन्देश भेजते रहते थे।

         काफी दिनों तक युद्ध चलता रहा और एक समय ऐसा आया जब लेडी मार्टिन को सन्देश मिलना बंद हो गये!

 वह बहुत परेशान थी। एक बार वह अपने घोड़े पर सवार होकर- “बैजनाथ महादेव ” के मंदिर के पास से गुजर रही थी।

         वहाँ हो रही शंख और मंत्र की ध्वनि ने उन्हें अपनी ओर आकर्षित किया! वह मंदिर के अंदर गई और उन्हें पता चला कि ब्राह्मण भगवान शिव की पूजा कर रहे थे।

      उन्होंने लेडी मार्टिन का उदास चेहरा देखा और उसकी समस्या पूछी! उसने उन्हें सारी घटना बताई।

 

पंडितों ने  उन्हें बताया कि भगवान शिव भक्तों की प्रार्थना सुनते हैं और उन्हें कुछ ही समय में कठिन परिस्थितियों से बाहर भी निकाल लेते हैं। ब्राह्मणों की सलाह से उन्होंने 11 दिनों के लिए “ओम नमः शिवाय ” मंत्र का “लघुरुद्री अनुष्ठान” शुरू किया।

           उन्होंने भगवान शिव से प्रार्थना की- कि यदि उनके पति सकुशल घर पहुंच जाएं तो वह मंदिर का जीर्णोद्धार कराएंगी। “लघुरुद्री ” के आखिरी दिन एक दूत आया,और उन्हें एक पत्र दिया।

 

उनके पति ने लिखा था: “मैं युद्ध भूमि से नियमित रूप से आपको संदेश भेज रहा था “लेकिन अचानक पठान मुसलमानों ने हमें चारों ओर से घेर लिया! हम ऐसी स्थिति में फंस गए थे जहां मौत से बचने की कोई गुंजाइश नहीं थी! अचानक, मैंने लंबे बालों वाले भारत के एक योगी को त्रिशूल (तीन नोक वाला हथियार  त्रिशूल ) ले जाते हुए देखा।

 

उनका व्यक्तित्व अद्भुत था और वे अपने हथियार को शानदार शैली के साथ चला रहे थे। इस महापुरुष को देखकर पठान पीछे भागने लगे। उनकी कृपा से हमारा बुरा समय जीत के क्षणों में बदल गया।  केवल शेर की खाल पहनने वाले और तीन नुकीले हथियार रखने वाले भारत के उस व्यक्ति के कारण संभव हुआ। उस महान योगी ने मुझसे कहा कि मुझे चिंता नहीं करनी चाहिए और वह मुझे बचाने के लिए ही आये हैं क्योंकि वह मेरी पत्नी की प्रार्थनाओं से बहुत प्रसन्न थे।

          पत्र पढ़ते समय लेडी मार्टिन की आंखों में खुशी के आंसू भर आये। उसका हृदय हर्ष और श्रद्धा से अभिभूत हो गया। वह भगवान शिव के पत्थर के प्रतीक (लिंगम ) के पास नीचे बैठ गई और फूट फूट कर रोने लगी। कुछ हफ़्तों के बाद कर्नल मार्टिन वापस आये।

 

     लेडी मार्टिन ने उन्हें सारी घटना बतायी। अब पति पत्नी दोनों भगवान शिव के भक्त बन गये। 1883 में उन्होंने मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए 15,000 रुपये का दान दिया।

 

इसकी सूचना उत्कीर्ण शिला आज भी आगर मालवा के बैजनाथ महादेव मंदिर में मौजूद है।

error: Content is protected !!
×