Sshree Astro Vastu

कर्तव्य

कनाडा से आये बुआ के आसपास भतीजों का एक समूह  इकट्ठा हुआ। बुआ आज लगभग 2 साल बाद घर आई। घर में दादा, भाभी, मां, पिता आंखों में आंसू लिए बेटी के लौटने का इंतजार कर रहे थे.

मिताली की शादी चार साल पहले हुई थी। मिताली खूबसूरत, पढ़ी-लिखी थी.. मयका भी अच्छा खासा था । आशीष राव के यहाँ से आया रिश्ता तुरंत तय हो गया। लाडकेवालेभी पढे-लिखे थे और लड़का होशियार और समझदार था। उन्होंने तुरंत शादी करवादी. कुछ ही समय में उन्हें कनाडा का ऑफर मिला और दोनों वहां चले गये. वह परिवार में विदेश जाने वाली पहली व्यक्ति थीं।

घर पर उसकी भाभी भी उसकी तरह ही पढ़ी-लिखी थी। लेकिन उसके हिस्से की ख़ुशी कम थी. उनके पति- आशुतोष, यानी मिताली के भाई. जब उन्हें दूसरे शहर में अच्छी नौकरी का प्रस्ताव मिला तो उन्होंने अपने माता-पिता के लिए घर नहीं छोड़ा।

 

 मिताली के सास-ससुर उसे छोड़ने को तैयार नहीं थे। वह उनकी इकलौती संतान थी । उनकी उम्र को देखते हुए उन्होंने सोचा कि उन्हे नहीं जाना चाहिए. लेकिन मिताली के माता-पिता चाहते थे कि मिताली और उनके पति बाहर जाएं और आगे बढ़ें। मिताली और उनके पति ने अपने माता-पिता से कहा कि वे कभी-कभी आते रहेंगे, संपर्क में रहेंगे और समय आने पर पड़ोसियों और रिश्तेदारों से मदद मांगेंगे। वे कनाडा जाना चाहते थे, ठीक उसी समय मिताली के भाई – आशुतोष को भी वहाँ से प्रस्ताव मिला, लेकिन उनके माता-पिता ने इसका स्पष्ट विरोध किया। उसने लड़की से बाहर जाने की जिद की और लड़के को अपने पास ही रखा. उनके व्यवहार में अपनी बेटी के प्रति और अपने बेटे के प्रति काफी अंतर था।

 

 

 

हालाँकि इस सब में भाभी ने कहीं कोई शिकायत नहीं की. मिताली के मन में अपनी भाभी के प्रति बहुत सम्मान और प्यार था। वह अपनी भाभी के लिए बहुत सारी चीजें लेकर आई। उसका मानना था कि उसकी भाभी ही उसके माता-पिता की देखभाल कर सकती है।

 

 

 

सभी ने मिताली द्वारा वहां से लाई गई चीजें साझा कीं. उसके माता-पिता लड़की की बहुत सराहना कर रहे थे। इतने सालों बाद जब वह घर आई तो उसके सभी रिश्तेदार उससे मिलने आ रहे थे। माँ रिपीट मोड पर कैसेट सुनती थीं और सबको बताती थीं कि उनकी बेटी क्या लेकर आई, कैसे उसने कनाडा मे अपना संसार सजाया। मिताली भी यही बात सुन-सुनकर थक गई थी…

 

 

 

 

 

“अरे माँ, तुम सबको कितनी तारीफ करोगी? बस अब…”

 

 

 

“मेरी बेटी बिल्कुल तारीफ करने जैसी है…”

 

 

 

“ एक दिन के लिए आयी हूँ, पर जो भाभी हमेशा साथ रहती है, उसकी तारीफ मैंने कभी तुम्हारे मुँह से नहीं सुनी..”

 

 

 

 

 

“कैसी तारीफ़ उसकी, यही तो उसका काम है…”

 

 

 

“यही उसका काम है।”

 

 

 

मिताली को यह वाक्य अपनी मां से कई बार सुनना पड़ा। एक माँ होते हुए भी क्या उसे अपनी भाभी के प्रति कुछ सम्मान नहीं रखना चाहिए? यह बात उसे लगातार महसूस होती थी.

 

 

 

 

 

दोपहर का समय है। खाना खाने के बाद सभी लोग अपने कमरे में चले गये. भाभी अपनी रसोई समेट रही थी. मिताली को पता चला कि उसकी माँ बाहर गई है तो वह अपनी भाभी के पास गई। क्योंकि जब माँ घर पर होती थी तो आमतौर पर मिताली को भाभी के पास जाने की इजाज़त नहीं होती थी, इस डर से कि उसकी बेटी को कुछ काम करना पड़ेगा। मिताली अपनी भाभी के पास गयी और पूछा, “क्या मैं आपकी मदद कर सकती हूँ?”

 

 

 

“अरे ताई आप क्यों? मैं जल्द ही यह सारा समेट लुंगी…”

 

 

 

“जल्दी करो, देखो यह कितना चौड़ा है, इसमें चींटी के भी घुसने की जगह नहीं है। सिंक में बर्तन…ओह…एक भाभी अकेली क्या करेगी?”

 

“अरे ताई ये हमेशा के लिए है… आज नहीं, और मुझे इसकी आदत है इसलिए मुझे कोई आपत्ति नहीं है..”

 

 

 

“कुछ नहीं, मैं बर्तन धो लूंगी..”

 

 

 

“आह ताई बिल्कुल नहीं हा… मैं तुम्हारी बात नहीं मानूंगा..”

 

 

 

 

 

“अरे भाभी, इसी कारण से आपसे बात हो जाएगी।”

 

 

 

मिताली ने कुछ नहीं सुना.. वह बर्तन धोने लगी। तभी उसका ध्यान पीतल की खरल ओखली पर गया..

 

 

 

“ओह…कितना सुंदर और ज़ोरदार है ये खरल ओखली..”

 

 

 

 

 

भाभी का चेहरा खुल गया..

 

 

 

“अच्छा है ना?? मैं इसे दो साल से खरीदना चाह रही थी…लेकिन यह बहुत महंगा था, तो मैंने क्या किया…मैंने पैसे इकट्ठा किए और इसे ले लिया।

 

 

 

“यह कैसे मिला..”

 

 

 

 

 

“बहुत महँगा, 3 हजार..”

 

 

 दरअसल मिताली के लिए यह रकम बहुत कम थी, लेकिन उसे यह देखकर बहुत दुख हुआ कि अपनी भाभी के लिए दो साल तक इंतजार करना और पैसे जमा करना कितना मुश्किल था।

 

 

 

“यह वाकई महंगा है…” मिताली ने भाभी का सम्मान बनाए रखने के लिए कहा…

 

 

 

 

 

“भाभी, आपको और भाई को भी वहां होना चाहिए था…वहां पैसा तो है लेकिन एक अलग जिंदगी है..कम से कम एक बार इसका अनुभव तो जरूर लेना चाहिए।”

 

 

 

वे बातें कर ही रहे थे कि मां वहां आ गईं और बोलीं.

 

 

 

“उसे क्यों उकसा रही हो, वे दोनों वहां कैसे पहुंच सकते हैं?”

 

 

 

 

 

“जैसे हम गए…”

 

 

 

“तो फिर हमारी देखभाल कौन करेगा?”

 

 

 

“हमारी सास की देखभाल कौन करता है?? आप तो हमसे जाने का आग्रह कर रहे थे।”

 

 

 

 

 

मिताली संतुष्ट नहीं हुई और बहस करने लगी, लेकिन भाभी ऐसा नहीं चाहती थी, उसने कहा,

 

 

 

“आह ताई, हमें वास्तव में बाहरी दुनिया पसंद नहीं है… हम यहां क्या कमी हैं..”

 

 

 

“देखो… मज़ा तब आता है जब तुम्हें सारा असनिसे मिल जाये तो अच्छा लागतं हैं… जब तुम्हें सब कुछ खुद ही करना पड़ता है, तब तुम्हें एहसास होता है, हर कोई तुम्हारे जैसा थोड़ा-बहुत कर सकता है…”

 

 

 

 

 

सास को यह मंजूर नहीं था कि उसका बेटा और बहू बाहर जाकर यहां रहें, क्योंकि उन्हें तो सब कुछ मिल रहा था… मिताली मां से बहुत नाराज थीं, लेकिन भाभी ने उन्हें शांत कर दिया और उसे एक तरफ ले गयी.

 

 

 

“ताई, माँ तो आपकी है…बहस मत करो..”

 

 

 

“भाभी, कभी अपने लिए भी खड़े हो जाओ…”

 

 

 

 

 

“पक्ष लेने का मतलब है घर की शांति भंग करना.. जो मुझे पसंद नहीं आएगा..”

 

 

 

इतना कह कर भाभी चली गयी. वह कमरे में चुपचाप रो रही थी, तभी आशुतोष वहां आ गया..

 

 

 

 

 

 

 

क्या बकवास है क्या हुआ??”

 

 

 

“कुछ नहीं…”

 

 

 

 

 

“मुझे पता है, माँ ने कुछ कहा होगा.. ठीक है?”

 

 

 

“क्योंकि वे दोनों मां बेटी मे बहस नहीं चाहती…”

 

 

 

“समझ गया, हमेशा की तरह मिताली आपकी तरफ से बोल रही थी और आपने विवाद सुलझा लिया..”

“यह मुझे सही लगता है।”

 

 

 

“तुमने कभी अपने बारे में नहीं सोचा… मैं कनाडा जाने के लिए तैयार थी लेकिन तुमने मुझे अपने माता-पिता की ओर देखने से रोक दिया… और वहां मैंने अपने माता-पिता को यह सच बताया और उन्होंने इसे स्वीकार नहीं किया.. उनके अनुसार मैं उनका श्रवण बच्चा था इसलिए यह मेरा इनकार था।”

 

“तुम दोनों भाई-बहन, ऐसा लगता है कि तुम एक दिन मेरे लिए लड़ोगे..”

 

 

दोनों हंसने लगे.

 

 

 

“अरे, मैं क्या कह रही हूँ, ताई कुछ दिनों के लिए यहाँ है, इसलिए बहस मत करो…”

 

 

 

“ठीक है मैडम, जैसा आप कहें..”

 

 

 

 

 

उस दिन भाभी को अकड़न और कमजोरी महसूस हो रही थी. आशुतोष और मिताली उसे आराम दिलाते हैं लेकिन वह कहा सुनती है…

 

 

 

ठीक उसी दिन मिताली से मिलने उसकी मौसी अपनी बहू को लेकर आ गई… उन दोनों के आते ही मिताली की मां ने अपनी भाभी को काम पर लगा दिया।

 

 

 

“पूरन पोली, साग कर, भजी तल..”

 

 

 

 

 

“ओह माँ भाभी की तबियत ठीक नहीं है…”

 

 

 

“उसे कुछ खास नहीं हुआ, वह…”

 

 

 

जैसे ही मौसी ने यह सुना तो उसने अपनी बहू को उसकी मदद के लिए भेजा। वह अनिच्छा से उठी और रसोई में बैठ गयी। नामा ने सिर्फ लहसुन छीला और प्याज काटा।

 

 

 

 

 

भाभी ने सारा खाना बनाया, खाना खाया। जैसे ही खाना अच्छा बना, चाची सराहना करने लगीं,

 

 

 

“आपकी बहू अच्छा खाना बनाती है…”

 

 

 

“हम्म… उसे इसकी आदत है..” माँ बुदबुदाई..

 

 

 

 

 

भाभी ने कहा, “कुछ प्याज कटे हैं, बारीक कटे हैं. भाजी बहुत अच्छी बनाई है.”

 

 

 

यह बात सुनकर मौसी अपनी बहू की तारीफ करने लगीं.

 

 

 

“हमारी केतकी खाना भी अच्छा बनाती है.. सब्जी बनाती है तो ऐसा लगता है जैसे किसी होटल में खाना खा रही हो… बाकी सब मैं संभाल लेती हूं. वह मेरी बहुत मदद भी करती है.”

 

 

 

 

 

मिताली इंतजार कर रही थी कि किनारी अपनी भाभी की तारीफ में दो शब्द बोलेगी, लेकिन ये क्या… मां के मुंह से एक भी शब्द नहीं निकला…

 

 

 

मिताली बहुत परेशान थी…

 

 

 

कर्तव्य-4 अंतिम

 

 

 

मिताली ने इस बारे में अपनी मां को बताने का फैसला किया…

 

 

 

उस दिन मिताली अपने ससुराल जाने की तैयारी कर रही थी. माँ पास बैठी उसकी मदद कर रही थी.

 

 

 

 

 

“क्या बकवास है? अब ससुराल वाले कब तक रहेंगे?”

 

 

 

“पंद्रह दिन रुकूंगा..”

 

 

 

“इतना क्यों? बल्कि कुछ दिन और यहीं रुक जाओ…आखिरी दो-चार दिन के लिए चले जाओ..।”

 

 

 

 

 

“क्यों? मेरी सास भी हमारे साथ रहना चाहती हैं.

 

 

 

“कैसे, तुम्हें काम पर रखा जाएगा…यह करो, वह करो…।”

 

 

 

“माँ, तुम वही क्यों नहीं करती जो तुम मेरे बारे में अपनी भाभी के बारे में सोचती हो?”

 

 

 

 

 

“जब से आये हो तब से देख रही हूँ, तुम अपनी भाभी की तरफ से बात कर रही हो..।”

 

 

 

“हाँ माँ, क्योंकि जब मेरी शादी हुई तो मैंने बहुत सी बातें सीखीं… मैं सच में सहमत हूँ कि हम स्वार्थी हैं, अपनी सास को यहाँ अकेला छोड़कर कनाडा चले गए… ऐसा देखकर, आप मुझे मना सकती थीं कि मैं न जाऊँ, लेकिन आपने ऐसा नहीं किया.

 

 

 

“मुझे लगता है कि हमारी बेटी को आगे बढ़ना चाहिए, बाहर रहकर अपनी जिंदगी बनानी चाहिए, किसी के बंधन में नहीं रहना चाहिए।”

 

 

 

 

 

“तो फिर क्या करे भाभी? तुमने तो उसके बारे में उल्टा ही सोचा.. माँ वो भी तो किसी की बेटी है, उसकी माँ ने ये क्यों नहीं सोचा??

 

 

 

“मैं यह स्वीकार नहीं करूंगी कि उसकी मां दुनिया के सामने अपनी टांग अड़ाए।”

 

 

 

“तो आपने अलग क्या किया? क्या मेरी सास ने एक शब्द भी कहा?”

 

 

 

 

 

“आह, भाभी की बात ही अलग है… हमारा और घर का ख्याल रखना उनका कर्तव्य है।”

 

 

 

“तो क्या मेरा कोई कर्तव्य नहीं है?”

 

 

 

लेकिन माँ इस बार निरुत्तर थी…

 

 

 

 

 

मिताली ने उसे हर बात में विरोधाभास दिखाया… माँ को समझ आने लगा कि उसकी वाणी कुछ हद तक झील जैसी क्यों थी…

 

 

 

“माँ, हर बहू का एक कर्तव्य होता है लेकिन हर कोई उसे पूरा नहीं करती… कई लड़कियाँ इस कर्तव्य से दूर भागती हैं, कुछ तो अपनी जान बचाने के लिए भी ऐसा करती हैं… लेकिन भाभी? उसने पूरे दिल से अपने परिवार के प्यार के लिए सब कुछ किया। बदले में कभी कुछ उम्मीद नहीं की. लेकिन आपने कभी तारीफ के दो शब्द नहीं बोले. आपने चार तिमाहियों में उसकी सराहना नहीं की…

 

 

 

माँ, कर्तव्य तो हर किसी के होते हैं, लेकिन उसका व्यक्तित्व इस बात से तय होता है कि वह उन्हें कितना स्नेह से निभाता है। भाभी को भाई से कनाडा शिफ्ट होने के लिए कहना क्या मुश्किल था? लेकिन उसने ऐसा नहीं किया…उसने तुम्हारे बारे में सोचा…

 

 

 

 

 

और मान लीजिए उसने किया? फिर भी, आपने उससे कहा होगा कि क्योंकि उसे कर्तव्य की कोई समझ नहीं है.. यानी, अगर वह अपना कर्तव्य निभाती है, तो “यह उसका काम है..” और यदि वह ऐसा नहीं करती है, तो “उसे कोई समझ नहीं है..” ,ये कौन सी विधि है माँ??

 

 

 

मेरी सास मेरी सास मुझे दोष दे सकती थीं.. लेकिन नहीं, मैं केवल उनके लिए चार दिन के लिए कुछ करता हूं लेकिन यह उनके लिए पूरे साल के लिए काफी है… वे हर किसी के सामने मेरी तारीफ करते फिरते हैं.. लेकिन अगर एक बहन जो सास पूरी जिंदगी आप सभी के लिए सब कुछ करती है, आप उसके साथ ऐसा व्यवहार करते हैं।

 

 

 

माँ, सबका कर्तव्य है। लेकिन बहुत कम लोग ऐसा करते हैं. आप भाग्यशाली हैं कि आपको भाभी जैसी बहू मिली…

 

 

 

 

 

माँ चुपचाप सुनती रही,

 

 

 

मिताली के पति आये, मिताली अपना बैग लेकर जाने ही वाली थी, तभी उसकी भाभी दौड़ती हुई अन्दर आयी,

 

 

 

“ताई, ये लो..”

 

 

 

 

 

“यह क्या है??”

 

 

 

“पीतल का खरल और ओखली…तुम्हें पसंद आया ना?” अगर तुम्हें यह वहां नहीं मिलेगा…तो यह ले लो, मैं दूसरा ले लूंगी..।”

 

 

 

मिताली की आंखों में आंसू आ गये.

 

 

 

 

 

मिताली को याद आया कि उसकी भाभी ने कितना इंतजार किया था और इस चीज़ के लिए पैसे बचाए थे, और यह देखकर कि जिस चीज़ को उसने बहुत प्यार से संजोया था वह इतनी आसानी से मुझे दे दी गई, मिताली से रहा नहीं गया, उसने अपनी भाभी को गले लगा लिया , इसे अपने प्यार की निशानी के रूप में अपने पास ले गई…

 

 

 

उसने कोने में खड़ी अपनी माँ की ओर देखा।

 

 

 

अपनी माँ को इतना दोषी देखकर, जितना वह पहले कभी नहीं हुई थी, उसे आशा की एक किरण दिखी… और एक आह के साथ उसने सभी को अलविदा कह दिया।

 

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×