Sshree Astro Vastu

कर्नल नवजोत सिंह बल, शौर्य चक्र विजेता।

आज रविवार हे। भारतीय सैनिकों की वीरता, साहस और समर्पण को याद करने का हमारा दिन। आज एक ऐसा ही साहसी सैनिक मनोचिकित्सक, जो पेशे से शिक्षक है, एक लेखक है, जिसे सैनिकों से गहरा प्रेम है। जय हिन्द

 

एक सैनिक की अकेले लड़ाई!

 

       8 अप्रैल 2020…. दाहिना हाथ कंधे से कट गया। उस घटना को चार साल हो गए हैं. सुनने में आया था कि किसी बादशाह ने एक खूबसूरत इमारत बनाने के लिए कारीगरों को तैयार किया और उन कारीगरों के हाथ काट दिए ताकि दोबारा कोई ऐसी इमारत न बना सके…. उन कारीगरों की आत्मा को क्या कष्ट हुआ होगा?

        मैं भी एक कारीगर हूं. बस मैं कुछ नहीं कर रहा था.. कुछ रख रहा था…. हाँ, देश की सीमा!

       मैं 11 अक्टूबर 1980 को इस दुनिया में आया और जब मैं छोटा था तभी से सेना की वर्दी पहनने का सपना देखता था। अठारह साल की उम्र में, वह खडकवासल्या के राष्ट्रीय रक्षा प्रशिक्षण केंद्र में एक प्रशिक्षु सेना अधिकारी के रूप में शामिल हुए और 2002 में, अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए, एक सेना अधिकारी बन गए।

       चूंकि मुझमें हमेशा कुछ साहसी करने की चाहत थी, इसलिए मैं खुद ही स्पेशल फोर्सेज में शामिल हो गया। भारतीय सेना के इस अत्यंत महत्वपूर्ण बल में शामिल होना….एक सपना सच होने जैसा। वह खून से एक सिपाही था… उसे सेना की हर चीज़ पसंद थी। इसलिए हम हर मामले में आगे थे.

         मेरे प्रदर्शन को देखकर सेना ने मुझे हमारे पड़ोसी मित्र देश भूटान के सैनिकों को प्रशिक्षित करने की चुनौती दी। जैसे ही मैं भूटान में अपना मिशन पूरा करने के बाद भारत लौटा, मुझे जम्मू-कश्मीर में तैनात कर दिया गया। इधर मेरा उत्साह पूर्णतः तृप्त हो गया। मैं कई आतंकवाद विरोधी अभियानों में सबसे आगे रहता था।

        2008 में ऐसे ही एक ऑपरेशन में, मैंने दो आतंकवादियों का पीछा किया, उन्हें करीब से गोली मार दी और उन्हें यमसादनी भेज दिया… जिसके लिए मुझे शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया। वास्तव में, यह मेरा काम था… वास्तव में, यह विशेष बल कमांडो का काम है।

       मेरा काम देखकर सेना ने मुझे एक और जिम्मेदारी सौंपी… विदेश जाकर अंतरराष्ट्रीय शांति सेना में भारत का प्रतिनिधित्व करने की… मैंने कुछ समय तक अफ्रीकी देश कांगो में संयुक्त राष्ट्र शांति सेना में सैन्य संचालन अधिकारी के रूप में काम किया। .

      आपको याद होगा….2016 में हमारी सेना ने दुश्मन के इलाके में घुसकर आतंकियों को मार गिराया था…सर्जिकल स्ट्राइक! इस बार भी मेरी ड्यूटी उसी क्षेत्र में थी! और अब मैं 2 पैरा एसएफ का कमांडिंग ऑफिसर बन गया… जिम्मेदारियां और निश्चित रूप से कार्य भी बढ़ गए। मेरे सैनिक मुझे पूरी तरह से तैयार, सक्षम रखना चाहते थे और मैं स्वयं यह करने में सक्षम था!

       एक दिन मैंने इक्कीस किलोमीटर की मैराथन दौड़ लगाई। दाहिने हाथ में बहुत दर्द होने लगा. ऐसा लगा जैसे हाथ पर कोई बड़ी गांठ हो। चेकअप किया गया और मुझे…..बीमारी का पता चला!

      सहकर्मी, दोस्त मुझसे कहते थे.. ‘तुम बहुत अलग हो… दुर्लभ से भी दुर्लभ!’ तो मैं बीमार होते हुए भी सामान्य कैसे हो सकता हूँ? क्या आप बीमारी का नाम जानते हैं? टेलैंगिएक्टिक ओस्टियोसारकोमा! फिल्म आनंद में राजेश खन्ना को ऐसी ही बीमारी थी.. आपको याद होगा! यहां तक ​​कि फिल्म में ये आनंद इतनी घातक बीमारी होने के बावजूद अंत तक मुस्कुराता रहता है…. मैंने मानसिक रूप से ऐसे ही रहने का फैसला किया। मेरा इलाज करने वाले डॉक्टरों में से एक ने तो यहां तक ​​कहा… मैंने कैंसर जैसी गंभीर बीमारी में भी इतना मुस्कुराता मरीज़ नहीं देखा!

       मैं कहता था… ‘मौत से क्यों डरें? मैं हाड़-मांस का सिपाही हूं. हर दिन एक नई लड़ाई है… सब कुछ जोखिम में डालकर जीतना पड़ता है।’

      कीमोथेरेपी शुरू की गई. एक साल बीत गया और आख़िरकार डॉक्टरों को मेरा दाहिना हाथ कंधे से काटने का निर्णय लेना पड़ा क्योंकि यह असहनीय था! इस ऑपरेशन से आठ दिन पहले तक मैं कमांडिंग ऑफिसर के रूप में कर्तव्य निभा रहा था. आख़िरकार दाहिना हाथ एक बार के लिए मेरे शरीर से अलग हो गया! एक सैनिक का दाहिना हाथ उसका जीवन या मृत्यु है। आपको राइफल अपने दाहिने हाथ से ही चलानी होगी….और मेरा नाम बहुत सटीक होता था!

 

इस दाहिने हाथ के विच्छेदन ऑपरेशन (कंधे से हाथ को काटने की सर्जरी) के बाद मैं तुरंत ड्यूटी पर शामिल हो गया… हमेशा आगे बढ़ने के लिए एक सैनिक… जब आप मुड़ते हैं तो कोई मगुटी नहीं!

       जब मैं अस्पताल से अपनी सैन्य इकाई में घर पहुँचा तो सबसे पहला काम जो मैंने किया, वह था अपनी साइकिल को उस तरह से संशोधित करना जैसा मैं चाहता था… एक हाथ से चलाना। आत्मनियंत्रण सीखा, वर्दी पहनना, जूते के फीते बांधना….घावों पर मरहम लगाना, बाएं हाथ से पचास पचास पुश अप करना…और हां, बाएं हाथ से सटीक फायरिंग करना!

       बल शब्द मेरे अंतिम नाम में है… बल का अर्थ है ताकत! सभी बाएँ हाथ के बल पर एकत्रित होने लगे.. इतना ही नहीं… जीप भी चलाने लगे.. एक हाथ से! और हां… पार्टियों में फिर से डांस किया… पहले जैसा ही।

      “कभी हार मत मानो, कभी हार मत मानो, कभी नहीं, कभी नहीं, कभी नहीं, कभी नहीं – कुछ भी नहीं देना, बड़ा या छोटा, बड़ा या छोटा – सम्मान और अच्छी भावना के दृढ़ विश्वास के अलावा कभी भी हार मत मानना” – सर विंस्टन चर्चिल।

        विंस्टन चर्चिल ने इसे इस तरह कहा… किसी भी कीमत पर पीछे न हटें… अपने आत्म-सम्मान और विवेक की रक्षा के लिए कुछ भी करें!

        श्रीमती। आरती…मेरी किस्मत…अर्धांगिनी. किसी पर्वत शिखर की तरह… बहुत मजबूत। उन्हें मुझे धैर्य देना चाहिए, एक छोटे बच्चे की तरह मेरा ख्याल रखना चाहिए।’

       मैं एक पंजाबी जाट हूं और वह एक साउथर्नर हैं। हम एक-दूसरे को स्कूल के समय से जानते हैं। इससे प्यार और फिर इससे शादी. भगवान ने हमें दो प्यारे बेटे दिए हैं. हम इस वक्त बेंगलुरु में हैं. माता-पिता बहुत दूर इक्कीस सौ किलोमीटर दूर दिल्ली में हैं। एक भाई भी है.

      जब मुझे लगा कि सब कुछ ग़लत है, तब मुझे एहसास हुआ… कैंसर कंधे पर ख़त्म नहीं हुआ था… यह पूरे शरीर में फैल गया था!

      अब हमें जाना होगा… हमें जाना होगा… यहां प्रदर्शन अब खत्म हो गया है! मुझे इस अस्पताल के बिस्तर पर कैसे देखा जा सकता है…कोई मृत्यु शय्या नहीं? फिर भी देखना है. इसलिए मैंने अपने बाएं हाथ से अपने मोबाइल कैमरे का उपयोग करके एक सेल्फी ली… खुद पर मुस्कुराते हुए!

ऐसा लगता है कि वो पल अब ज्यादा दूर नहीं होंगे.

     मैंने कलम और कागज उठाया… और लिखा… ‘मैंने मौत के डर से भीख नहीं मांगी है… मैंने अच्छे और बुरे के भाग्य का सामना किया है! कवि विलियम अर्नेस्ट हेनले ने इनविक्टस नामक कविता लिखी थी जिसका अर्थ है ‘अविजेता’ जब उन्होंने केवल सत्रह वर्ष की उम्र में अपना एक पैर खो दिया था। यह आखिरी पंक्ति थी. …..मैं अपने भाग्य का स्वामी हूं: मैं अपनी आत्मा का कप्तान हूं। वह मेरे भाग्य की स्वामी और मेरी आत्मा की स्वामी है!

       अब से मेरे दोनों बच्चे मेरी गौरवपूर्ण विरासत को आगे बढ़ाएंगे…

आरती, मेरी जान.. मेरी आत्मा तुममें सांस लेती है…

आज मेरे शरीर में चेतना है और मैं भी

आसमान में शान से लहरा रहा है हमारा तिरंगा…

       भारत माता… आपके चरणों में यह मेरा आखिरी प्रणाम है!

      हे नश्वर…इतने पागल मत बनो…मैंने विजय प्राप्त कर ली है और अमर हो गया हूँ!

       यह मेरी अंतिम इच्छा होगी कि मेरा अंतिम संस्कार यहीं मेरे अपने सैनिकों की उपस्थिति में किया जाए….

         माता-पिता, भाई दिल्ली से बेंगलुरु आ रहे हैं… क्योंकि मेरी आखिरी इच्छा का सम्मान करते हुए सेना ने मेरा अंतिम संस्कार यहीं करने का फैसला किया है… दिल्ली से बेंगलुरु… यात्रा की दूरी लंबी है। इसमें कोरोना महामारी चल रही है…एयरलाइन सेवा उपलब्ध नहीं है. उन्हें आसानी से आने में कम से कम तीन दिन और लगेंगे… यानी 13 अप्रैल…2020.. बैसाखी के पास एक पवित्र दिन! मेरा अंतिम संस्कार उसी दिन किया जाएगा… क्या संयोग है ना?

जय हिन्द!

       कर्नल नवजोत सिंह बल, शौर्य चक्र विजेता। कमांडिंग ऑफिसर, 2, पैरा एस.एफ. यही उनका रहस्य है जिसे मैंने अपने शब्दों में प्रस्तुत किया है। कैंसर जैसी भयानक बीमारी के कारण उनका दाहिना हाथ कंधे से कट जाने के बाद भी, नवज्योत सिंह बाल साहब ने अपनी सैन्य सेवा निर्बाध रूप से और बड़ी गरिमा के साथ जारी रखी… जब तक कि अस्पताल में उनकी मृत्युशैया पर उनका निधन नहीं हो गया।

         9 अप्रैल 2020 को कर्नल साहब ने मुस्कुराते हुए इस दुनिया को अलविदा कह दिया। आज उनकी चौथी सालगिरह है. कर्नल को भावभीनी श्रद्धांजलि! यह लेखन हमने मीडिया में जो पढ़ा और सुना है उस पर आधारित है।

      सेना पर अधिकांश साहित्य अंग्रेजी या कम से कम हिंदी में उपलब्ध है। यह लेखन इसलिए उपलब्ध है ताकि मराठी लोग हमारे वीर पुरुषों की कहानियाँ आसानी से पढ़ सकें। फोटो अखबार से लिया गया है. हम सभी मीडिया के बहुत आभारी हैं। जय हिन्द

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×