Sshree Astro Vastu

मोह का अर्थ है महामृत्यु

‘मंत्रमुग्धता’ कोई शब्द नहीं बल्कि एक भावना या मन की एक अवस्था है जिसमें आदमी खो जाता है, खो जाता है, जिससे वह बच नहीं पाता। ‘मोह’ का अर्थ है आकर्षण। अगर कोई किसी चीज से ‘मोहित’ हो जाए तो इंसान उसे अपने साथ बनाने की कोशिश में लगा रहता है।

 

यदि ‘मोह’ अच्छी चीजों के लिए है, तो मानव जीवन का स्वरूप अत्यंत आकर्षक, सुंदर और सफल हो जाता है। परंतु यदि वही मोह बुरी बातों और बुरे विचारों को बढ़ावा दे रहा हो तो मनुष्य अपने ही जीवन के विनाश का कारण बन जाता है।

इसी प्रकार आध्यात्मिक दृष्टि से यह सर्वविदित है कि मानव शरीर से आत्मा का निकल जाना मृत्यु है। मृत्यु एक शाश्वत सत्य है. यह अवश्यंभावी है कि जन्म लेने वाला प्रत्येक व्यक्ति कभी न कभी मरेगा।  लेकिन मृत्यु क्या है? यदि आप यह प्रश्न पूछ रहे हैं, तो इसका उत्तर यह नहीं है कि शरीर अक्षम हो जाता है, हृदय रुक जाता है। किसी व्यक्ति की मृत्यु वह क्षण होता है जब उसके जीवन में ‘मोह’ जड़ जमा लेता है। इसका सबसे अच्छा उदाहरण पुराणों में भरतमुनि का मिलता है।

 

भरत मुनि अत्यंत तपस्वी और मोक्ष प्राप्ति के प्रति समर्पित ऋषि थे। पूरे दिन साधना किये बिना उन्हें भोजन भी नहीं मिलेगा। इसके कारण उनकी साधना इतनी उन्नत थी कि थोड़े ही समय के बाद उन्हें जन्म और मृत्यु के चक्र से मोक्ष और मुक्ति मिल जाती थी। इस प्रकार भरत मुनि अपनी मुक्ति के द्वार पर पहुँच गये थे।

 

एक बार जंगल में, एक बाघ शिकार करने के लिए एक गर्भवती हिरण का पीछा करता है। बेचारा हिरण प्राण बचाने के लिए दौड़ता है। कहां पढ़ना है और कहां नहीं, इसका कोई ख्याल नहीं था, बस दौड़ने का मतलब दौड़ना था। वह नदी की ओर भागी और उसी स्थान पर उसका गर्भपात हो गया। उसने शावक को नदी में छोड़ दिया और बाघ आया और उसका शिकार ले गया।

 

हिरण का बच्चा नदी के दूसरे छोर की ओर दौड़ता है। इसी टिप पर भरत मुनि तपस्या कर रहे हैं। उन्हें अचानक एक पिल्ले के रोने की आवाज सुनाई दी और उन्होंने चारों ओर देखा तो एक पिल्ला नदी में अपनी जान बचाने की कोशिश कर रहा था। वे तुरंत वहां गए और पिल्ले को बाहर निकालकर अपनी झोपड़ी में ले गए। वहां उन्होंने पिल्ले की देखभाल शुरू कर दी।

अब कोई भी दिन हिरण के बच्चे की देखभाल के बिना नहीं गुजरता था। चूँकि पिल्ला अच्छा खेलता और मेलजोल रखता था, इसलिए उसने ऋषियों का अच्छा मनोरंजन किया। ऐसे ही खेल में भरत मुनि का उस पिल्ले पर बड़ा ‘मोह’ था। उनकी पूजा और साधना अभी भी जारी थी. लेकिन अब उसका ज्यादातर समय उस पिल्ले के साथ खेलने में बीतता था। इस प्रकार मोक्ष द्वार तक पहुंचे भरत मुनि हिरण के प्रलोभन में फंस गये।एक दिन अचानक वो हिरण कहीं गायब हो जाते हैं। निःसंदेह वह बड़ा होकर कहीं चला गया होगा और वहां उसका शिकार हो गया होगा… मुनि को अपनी झोपड़ी में शावक का कुछ भी पता नहीं चला। उसकी चिंता बढ़ गयी. उन्होंने चारों ओर तलाश की। लेकिन फिर भी कुछ पता नहीं चला. एक दिन, दो दिन, तीन दिन बीत गए, लेकिन ये भरतमुनि अभी भी उस पिल्ले को ढूंढ रहे थे। इस चिंता में वह अपनी साधना को पूरी तरह भूल गये थे।वे कुछ भी सुधार नहीं करते! महीनों तक तपस्या में मग्न बैठे भरतमुनि आज एक क्षण के लिए भी शांत नहीं बैठ सके। मन में केवल चिंता थी, बाकी सब कुछ खो गया था। अन्त में इसी चिन्ता में व्याकुल होकर उसकी मृत्यु हो गयी।जैसा कि भगवत गीता में कहा गया है, व्यक्ति अंतिम समय में जैसा सोचता है, उसी योनि में जन्म लेता है। इस प्रकार भरतमुनि का पतन हुआ और अब उनका मृगयोनि में जन्म हुआ। मोक्ष के अधिकारी बने भरतमुनि को मनुष्य बनने तक फिर से जन्म और मृत्यु के चक्र से गुजरना पड़ा। (अंत)निःसंदेह, इस कथा का अर्थ समझें तो भरतमुनि का अंत उसी दिन हो गया, जिस दिन वे हिरण पर ‘मुग्ध’ हो गये थे। इन सभी लोगों की मौत का कारण ‘मोह’ है।  श्रवण के मोह में माता-पिता की मृत्यु, राम के मोह में चक्रवर्ती दशरथ की मृत्यु, काम के मोह में रावण की मृत्यु, अश्वस्थामा के मोह में द्रोणाचार्य की मृत्यु, दुर्योधन की मोह में मृत्यु सिंहासन आदि ऐसे कई उदाहरण दिये जा सकते हैं. लेकिन उन सभी की मौत का कारण एक ही ‘मोह’ है।

 

 

सलिए आद्य शंकराचार्य कहते हैं,  

        

मोह एवं महामृत्युर्मुक्षिर्वापुरदिषु।    मोहि विनिजितो येन सा मुक्तपदमृद्दति ॥85॥ 

 

 

अर्थात मुमुक्षु साधक के लिए देहादिकों के स्थान पर ‘मैं वह हूं’ यानी ‘मोह’ ही महामृत्यु है। जो इस ‘मोह’ को जीत लेता है वह मुक्ति का अधिकारी बन जाता है।

 

 

आगे शंकराचार्य मोह की व्याख्या करते हुए कहते हैं,  

          

मोहं जहि महामृत्यु देहदर्शुतदिषु। यं जित्वा मुनायो यान्ति तद्विश्नोः परम पदम् ॥86॥  

 

अर्थात अपने शरीर, पत्नी, पति, पुत्र के प्रति ‘वासना’ मृत्यु है, इन्हें नष्ट कर दो। उस मोह पर विजय प्राप्त करके ऋषिगण विष्णु के परम पद को प्राप्त करते हैं

 

 

 

बिना तोड़-फोड के वैदिक व वैज्ञानिक विधी से वास्तु परामर्श शंका समाधान

ऐव व कुंडली विश्लेष आदि के लिए संपर्क करे नोट – हमारी सभी सेवाय सशुल्क दी जाती है |

error: Content is protected !!
×