Sshree Astro Vastu

पुरानी यादों का एक खास पन्ना

शब्द जो छिपे हुए कमरे में चले गए

 

जब मैं ऑफिस से घर आया, तो लड़की शिल्प फैलाकर कुछ कर रही थी और उसके पैर अजीब थे।

उन्होंने कहा, “आप बीच में क्या खा रहे हैं!”

उसके चेहरे पर प्रश्नचिह्न?

फतकाल???

 

जब मैं अपनी बहन के पास गया तो मैंने अपनी भतीजी से कहा, “मेरा बैग खूंटी पर लटका दो।” तो मुस्कुराया,

कहती है “पेग लगाती है???”

वह क्या है?”

अब मैं उसे क्या बताऊं? मेरा जन्म हमारे महल में हुआ, इसलिए खूंटी, कोनाडा, फड़ताल, ओगराल, रोली, घांघल,

ओटी, परसदार, मैडी, अटारी

ये रोजमर्रा के उपयोग में आने वाले शब्द थे.

 

कितनी देर हो गई शिरेया, दिवा “मालव” अब। दादी कहा करती थी.

 

कोंकण में इसे दिवा दावद कहा जाता है।

 

दादी भोजन करते समय “गोविंद” (एक घास) अलग रख देती थीं।

 

अब…..

 

बत्तियाँ “मुड़ी” नहीं जानी हैं बल्कि बेची जाती हैं।

 

भोजन का “पत्ता” उगाने के लिए नहीं है, बल्कि परोसने के लिए है।

 

यदि आपका मतलब चावल बढ़ाना नहीं है, तो आपका मतलब चावल देना है।

 

मंदिर में बाती को “शांत” नहीं करना है बल्कि बुझाना है।

 

चंदन की छाल और चंदन की जगह तैयार सुगंधित चाक ने ले ली है।

पिंजरा बदला नहीं गया है.

बुश शर्ट की जगह टी-शर्ट ने ले ली है।

नौवारी कपड़े का स्थान सिले हुए साड़ियों ने नहीं लिया है।

 

अच्छा खाने के बाद अब कोई “कमी” नहीं।

ज्यादा खाने से पेट में जकड़न होने लगती है।

 

पित्त के बिना अम्लपित्त होती है।

 

जरा सा भी रंगना नहीं है तो जोर से तमाचा जड़ना है.

 

भोजन के लिए कोई “तश्तरी” नहीं बल्कि एक प्लेट/पकवान है।

 

इस प्रकार की चाय तश्तरी ने इतिहास संजोया है।

 

थालीपीठ को ढकने के लिए कोई केले का पत्ता या प्लास्टिक शीट नहीं है।

इसे भूनने के लिए नॉन-स्टिक पैन का इस्तेमाल किया जाता है.

 

कैंची कैंची बन गई हैं, जबकि सिलाई मशीनें सिलाई मशीनें बन गई हैं।

 

दाव, पाली, भाटिया, कलथा/उलथन, ओग्राल अब, सर्विंग स्पून, स्पैटुला, हो गया।

 

बेंच चली गयी और बेंच आ गयी, वजन कांटा चला गया और वजन तौलने की मशीन आ गयी.

 

चलना नहीं चाहते?

 

क्योंकि अब ये शब्द गुप्त कक्ष की बजाय स्टोर रूम में चले गए हैं.

 

हम समय के साथ “एडजस्ट” किए बिना भी “आसानी से एडजस्ट” कर लेते हैं।

घटित हुआ!!!

 

तो बिना ज्यादा सोचे, चलिए सुबह “झपकी” की जगह “पावर नैप” लेते हैं…आइए सुबह की सैर पर चलते हैं

 

मूल में शीर्षक देखते ही ध्यान आता है कि ‘अदगल’ शब्द ही चिपक गया है। पहले हर घर में एक छिपा हुआ कमरा होता था। सारी अवांछित लेकिन उपयोगी चीजें वहीं गिरती थीं।_

.

.

लेकिन 1 बीएचके या 2 बीएचके के युग में, अव्यवस्था सीधे स्क्रैप में चली जाती है।

.

.

पुराने घर याद आते ही बातें बहुत याद आने लगती हैं। ओटी, ओसारी, पदवी, परसू, मजघर, बलाद, कोठीघर शब्द भूल गए हैं।

.

.

 

माला (अटारी के लिए आधुनिक मराठी, पानी के अवैध सिंटेक्स टैंक को छिपाने का स्थान) अध्ययन का स्थान भी हुआ करता था।

.

.

 

साथ ही अब वेंटिलेटर सिर्फ अस्पतालों या सिनेमाघरों में ही नजर आते हैं. कम ही लोग जानते होंगे कि हवा का संचार जारी रखने के लिए दरवाजे पर एक वेंट विंडो होती थी, इसे वेंटिलेटर कहा जाता था।

‘वल्चन’ एक ऐसा शब्द है जो अटक जाता है. मोड़ छत का वह हिस्सा है जो दीवार के बगल में आता है। घर को धूप और बारिश से बचाने के लिए इसे ऐसे ही रखा जाता था।

.

.

यह घर मवेशियों से लेकर आगंतुकों तक सभी के लिए विश्राम स्थल था। वहां विश्राम करना चाहिए.

क्या पागलपन है? डायवर्सन पर बारिश होने पर अधिकांश पानी ‘पनहली’ के माध्यम से जमीन में चला जाता है। लेकिन फिर भी बहुत सी भटकी हुई बूंदें ट्यूब के बजाय यहीं से नीचे आती हैं – यही पगोली है।

‘फड़ताल’…फड़ताल का मतलब है दीवार में बनी अलमारी। खूंटी, कोनाडे, देवद्या ऐसे ही अटके हुए शब्द हैं.

.

किसी पुराने घर के बाथरूम की तरह. एसेपैस चूल्हे पर पच्चीस-तीस लीटर का बर्तन गर्म किया जाता था। शरीर को रगड़ने के लिए पत्थर के खंड, ‘वज्री’ और ‘घांगल’ हुआ करते थे। वह भी समाप्त हो गया।

.

.

 

गृहिणी का कुनकवा बक्सा सहित दर्पण, फैनी, करंदा, मोम का कटोरा नष्ट हो गया। एक आम महिला के लिए मेकअप के लिए इतना सामान ही काफी होगा। अब वैनिटी बॉक्स आये। सौंदर्य प्रसाधन उसमें थे, आँखों में और मावेना वाली दुकान में।

.

.

 

एक छोटी लड़की की चोटियाँ मोटे ऊनी धागे से बाँधी जाती थीं, जिसे ‘अगावल’ कहा जाता था। यह शब्द भी लुप्त हो गया है.

.

.

.

चुल, वेल, कोयला जैसे शब्दों के साथ ही रसोई का चूल्हा भी चला गया है।

.

.

रसोई में सटेली, तपेली, कथली, रोवेला, गंज शब्द भूल गए।

.

.

ओगरालम शब्द भी इसी तरह अटका हुआ है.

.

.

पंचपाले, चौफुले, कावले सभी खो गए।

.

.

 

देवघरा सहित सहन, गंधा थाती लुप्त हो गई।

.

.

 

‘कथवाट’ शब्द इतिहास में डूबा हुआ है। कठवट का अर्थ है लकड़ी का परात, हिंदी कहावत ‘मन चंगा तो कठौती में गंगा’ इसी से बनी है।

.

.

 

कपड़ों के बारे में सोचते ही तथव, जाजम, बुस्कर, सुताडे सब खो जाते हैं। सोवला में पहनने के लिए पीताम्बर शब्द सुनने को मिलता है,

.

.

लेकिन बाहरी वस्त्र ‘पभरी’ खो गया।

.

.

सोवाला में पहनी जाने वाली ‘ढाबली’ सोवाला के साथ अप्रचलित हो गई।

.

.

 

सोने की कीमतें आसमान छू गईं और पुराने सोने के आभूषणों को भुला दिया गया।

.

.

 

कोठीघरा में कमरे हैं; लेकिन टोकरियाँ, ड्रम – जो बहुत सारे अनाज से भरे हुए थे – नष्ट हो गए।

.

.

सूप खूंटी से कटोरे में आ गया.

.

.

एक वर्ष, जब खेत में बहुत सारा अनाज हो जाता था, तो भंडारण के लिए आँगन में बड़े-बड़े ‘पवे’ खोदे जाते थे और उनमें भंडारण किया जाता था। प्रत्येक प्याऊ में कम से कम दस बोरे रखे हुए थे।

.

.

 

खाने के बर्तन, वटकावन, बुस्कर, मटके, फुंकणी, उखल, मूसल, खल और बट्टा, जाट, खूंटा, पवशेरा, शेर, मान, गुंज, अटपाव, छटाक आदि गायब हो गए।

बदलते समय के साथ खेतों को छोड़कर पत्तियां, परागकण और हरी पत्तियां जहां-तहां फेंकना मानो एक अधिकार बन गया है।

 

‘ए’ अदाकित्य को धीरे-धीरे निष्कासित किया जा रहा है।

यदि कोई घर ऊंचाई पर होता था, तो घर में प्रवेश करने के लिए ढलानदार सड़क होती थी, इसे चॉप कहा जाता था.. घर में प्रवेश करते ही दोनों तरफ एक बैठक कक्ष होता था, इसे धलाज या धलाज कहा जाता था.. ये हैं अदगली के नाम भी…

.

.

.

 

रोशनियाँ जलीं और कई प्रकार की रोशनियाँ बुझ गईं।

 

समय और आवश्यकता के अनुसार ऐसे कई शब्द लुप्त हो रहे हैं और कई नये शब्द भी प्रयोग में लाये जा रहे हैं। भाषा निरंतर विकसित हो रही है। विकास और प्रगति जारी रहेगी, केवल पिछली आधी सदी में जो शब्द कभी प्रचलन में थे लेकिन भुला दिए गए वे आसानी से याद रह जाते हैं, तो यह पूरा शब्दकोष, बस इतना ही…

 

क्या?…..

 

पुरानी यादें जाग उठीं…

आप सभी लोगों से निवेदन है कि हमारी पोस्ट अधिक से अधिक शेयर करें जिससे अधिक से अधिक लोगों को पोस्ट पढ़कर फायदा मिले |
Share This Article
×